ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारसमस्तीपुर में जनाजा से लौट रहे लोगों पर हमला, एक की मौत; मुहर्रम में पहले अखाड़ा खेलने के विवाद में हुई थी मारपीट

समस्तीपुर में जनाजा से लौट रहे लोगों पर हमला, एक की मौत; मुहर्रम में पहले अखाड़ा खेलने के विवाद में हुई थी मारपीट

मुहर्रम के दौरान पहले अखाड़ा खेलने को लेकर लिलहौल और गोरियारी गांव के युवकों के बीच विवाद के बाद हुई मारपीट में जख्मी एक युवक की बुधवार रात मौत हो गयी। इससे दोनों गांव के लोगों में तनाव है।

समस्तीपुर में जनाजा से लौट रहे लोगों पर हमला, एक की मौत; मुहर्रम में पहले अखाड़ा खेलने के विवाद में हुई थी मारपीट
Malay Ojhaहिन्दुस्तान,समस्तीपुरThu, 11 Aug 2022 07:53 PM
ऐप पर पढ़ें

समस्तीपुर में मुहर्रम के दौरान पहले अखाड़ा खेलने को लेकर लिलहौल और गोरियारी गांव के युवकों के बीच विवाद के बाद हुई मारपीट में जख्मी एक युवक की बुधवार रात मौत हो गयी। इससे दोनों गांव के लोगों में तनाव है। पुलिस दोनों गांव की स्थिति पर नजर रख रही है। 

सिंघिया थानाध्यक्ष केके मंडल ने बताया कि लाश को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया है। किसी पक्ष ने आवेदन नहीं दिया है। आवेदन मिलने पर समुचित कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है। मृत युवक गणेशी मुखिया (30) गोरियारी गांव के रघुवीर मुखिया का बेटा था।  

लोगों ने बताया कि मुहर्रम से एक दिन पहले रात में गोरियारी के लोग लिलहौल गांव अखाड़ा खेलने गये थे। उस दौरान दोनों गांव के युवक पहले अखाड़ा खेलने के विवाद को लेकर उलझ गए। गोरियारी के युवकों की लिलहौल के युवकों ने पिटाई कर दी। ग्रामीणों ने दोनों गांव के युवकों को शांत कराया। बुधवार दोपहर लिलहौल गांव निवासी अजीम नदाफ की मौत हो गई। इसे दफनाने के लिए लोग गोरियारी स्थित कब्रिस्तान गये थे। जनाजा दफन कर लौटने के क्रम में गोरियारी के लोगों ने उन पर हमला कर दिया। इसके बाद दोनों पक्ष ने एक-दूसरे पर रोड़बाजी की। 

इसी दौरान किसी ने कुल्हाड़ी से गणेशी मुखिया के सिर पर वार कर दिया। इससे वह बेहोश होकर गिर गया। उसे लोगों ने सिंघिया अस्पताल में भर्ती कराया। प्राथमिक उपचार के बाद उसे डॉक्टर ने घर भेज दिया। परिजन ने बताया कि रात में अधिक तबीयत बिगड़ने से उसकी मौत हो गयी। 

परिजनों का आरोप कि अस्पताल में सही तरीके से उसका इलाज नहीं किया गया। रेफर करने का आग्रह करने के बाद भी न रेफर किया गया और न ही अपनी देखरेख में अस्पताल में रखा गया। मारपीट में चोटिल पंचायत के सरपंच मो. असलम ने बताया कि विवाद को सुलझाने के लिए पंचायत बुलाने पर सहमति बनी थी। इसके बावजूद जनाजा दफन कर लौट रहे लोगों पर हमला कर दिया। शांत करने पहुंचे तो हम पर भी ईंट से वार किया। इसमें काफी चोट आयी। पुलिस के आने के बाद मामला शांत हो सका था। 

epaper