ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारपरशुराम का वंशज होना मेरा कसूर; बक्सर से टिकट कटने के बाद पहली बार बोले अश्विनी चौबे

परशुराम का वंशज होना मेरा कसूर; बक्सर से टिकट कटने के बाद पहली बार बोले अश्विनी चौबे

बक्सर से टिकट कटने के बाद केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने पहली बार अपनी चुप्पी तोड़ी और कहा कि उनका कसूर बस इतना है कि वह परशुराम के वंशज हैं और ब्राह्मण हैं, साथ ही राजनीति में सक्रिय हैं।

परशुराम का वंशज होना मेरा कसूर; बक्सर से टिकट कटने के बाद पहली बार बोले अश्विनी चौबे
Jayesh Jetawatलाइव हिन्दुस्तान,बक्सरMon, 08 Apr 2024 11:27 PM
ऐप पर पढ़ें

केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे बिहार की बक्सर लोकसभा सीट से टिकट कटने के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए। चौबे ने कहा कि उनका कसूर यह है कि वह परशुराम के भक्त हैं और कर्मकांडी ब्राह्मण हैं। वे सोशल मीडिया से लेकर सड़क और संसद तक सक्रिय रहे, फिर भी उनका टिकट कट गया। मगर उन्हें कोई नाराजगी नहीं है। बीजेपी उनकी मां है। अश्विनी चौबे ने संन्यास लेने की बात को पूरी तरह से खारिज कर दिया और कहा कि अगले पांच साल तक वे सक्रिय रूप से राजनीति करते रहेंगे। उन्होंने इशारों में बक्सर से बीजेपी प्रत्याशी मिथिलेश तिवारी को बाहरी करार देते हुए तंज भी कसा।

बक्सर से मौजूदा सांसद और केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने सोमवार को मीडिया से खुलकर बात की। उन्होंने कहा कि वे टिकट कटने के 15 दिनों बाद अपनी चुप्पी तोड़ रहे हैं। बीजेपी ने उन्हें सब खुछ दिया है। संघर्ष ही उनका जीवन है। चौबे ने कहा कि वह फकीर हैं और कभी किसी के सामने हाथ नहीं फैलाया। वह तो टिकट बांटने वालों में से थे। पार्टी ने टिकट काटकर उन्हें सम्मान दिया है। अब पार्टी को सम्मान देने की बारी उनकी है।

उन्होंने कहा कि टिकट कटने से वह नाराज नहीं हैं। नाराज तो वे लोग होंगे, जो बाहर से आए हैं। मैं तो बक्सर का हूं और यहीं का रहूंगा। अश्विनी चौबे ने रामचरितमानस की चौपाई सुनाकर कहा कि उन्होंने मान सहित विष पीकर जगदीश बन गए हैं। वह नीलकंठ धारी हैं और रामकाज के लिए काम करते हैं। जो हो गया सो हो गया।

कौन हैं मिथिलेश तिवारी, जिन्हें बक्सर से बीजेपी ने बनाया कैंडिडेट और अश्विनी चौबे का काटा टिकट

अश्विनी चौबे ने आगे कहा कि उनका कसूर यह है कि वह ब्राह्मण हैं और सक्रिय रूप से राजनीति कर रहे हैं। 1966 से जेल की यात्रा कर रहे हैं। 58 साल से तपस्या कर रहे हैं। 7 बार विधानसभा और दो बार लोकसभा चुनाव जीते, कभी हार का मुंह नहीं देखना पड़ा। पार्टी के खिलाफ जाने की बात पर उन्होंने साफ किया कि वह गिरगिट की तरह रंग बदलने वालों में से नहीं हैं। 

बता दें कि बक्सर से लगातार दो बार से सांसद अश्विनी चौबे का टिकट बीजेपी ने इस बार काट दिया। पार्टी ने इस बार युवा चेहरे मिथिलेश तिवारी को बक्सर से प्रत्याशी बनाया है। तिवारी मूलरूप से गोपालगंज जिले के रहने वाले हैं। ऐसे में उनपर बाहरी होने का ठप्पा भी लग रहा है। वे संगठन में कई पदों पर रहे। हालांकि, स्थानीय तौर पर पार्टी कार्यकर्ताओं में मिथिलेश तिवारी को लेकर विरोध देखा जा रहा है।