ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारछुट्टियों पर लालू और नीतीश सरकार का फतवा, अमित शाह बोले- जंगलराज की ओर बिहार

छुट्टियों पर लालू और नीतीश सरकार का फतवा, अमित शाह बोले- जंगलराज की ओर बिहार

झंझारपुर में बीजेपी की रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि बिहार में बड़े बदलाव की जरूरत है, सरकार नहीं सुशासन चाहिए, गुंडाराज नहीं जनताराज चाहिए।

छुट्टियों पर लालू और नीतीश सरकार का फतवा, अमित शाह बोले- जंगलराज की ओर बिहार
Jayesh Jetawatलाइव हिन्दुस्तान,मधुबनीSat, 16 Sep 2023 03:09 PM
ऐप पर पढ़ें

Amit Shah Speech Today: केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने मधुबनी जिले के झंझारपुर में बीजेपी की रैली को संबोधित करते हुए महागठबंधन सरकार पर जमकर हमला बोला। आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उनके निशाने पर रहे। शाह ने नीतीश सरकार द्वारा पिछले दिनों रक्षाबंधन, दिवाली, छठ समेत अन्य पर्वों पर छुट्टियां घटाने एवं रद्द करने के फैसले को फतवा बताया। उन्होंने कहा कि बिहार जंगलराज की ओर बढ़ रहा है।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह करीब डेढ़ बजे झंझारपुर के ललित कर्पूरी स्टेडियम पहुंचे। यहां उनका मखानों की माला, मधुबनी पेंटिंग और गदा भेंटकर भव्य स्वागत किया गया। बीजेपी की जनसभा को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि पिछले दिनों लालू यादव और नीतीश कुमार की सरकार ने फतवा जारी किया था। उन्होंने रक्षाबंधन और जन्माष्टमी की छुट्टी रद्द कर दी थी। बिहार की जनता ने आक्रोश दिखाया तो, सरकार को अपना फैसला वापस लेना पड़ा।

अमित शाह ने बताया विपक्षी गठबंधन का नाम यूपीए की जगह इंडिया क्यों रखा गया

शाह ने कई बार लालू और नीतीश पर जुबानी हमले किए। उन्होंने कहा कि लालू और नीतीश की जोड़ी बिहार को फिर से जंगलराज की ओर धकेल रही है। राज्य में अपहरण, लूट, पत्रकारों एवं दलितों की हत्या के मामले बढ़ गए हैं। यह भ्रष्टाचारियों की सरकार है। लालू प्रसाद यादव ने रेल मंत्री रहते हुए अरबों-खरबों का भ्रष्टाचार किया और नीतीश कुमार अपने स्वार्थ के लिए उनके साथ जाकर बैठे हैं। इनके गठबंधन के कुछ लोग रामचरितमानस का अपमान भी कर रहे हैं।

लालू यादव एक्टिव हो गए, नीतीश कुमार इनएक्टिव, शाह बोले- बिहार में क्या चल रहा है?

अमित शाह ने कहा कि बिहार में बड़े बदलाव की जरूरत है, सरकार नहीं सुशासन चाहिए, गुंडाराज नहीं जनताराज चाहिए। तीन दशक से ज्यादा समय जिन लोगों की सत्ता में भागीदारी रही है उन्होंने अगर ईमानदारी से अपना काम किया होता तो आज हमारे बच्चों को बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ती।