DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › सहरसा: सवा घंटे तक जाम में फंसी रही एंबुलेंस, छह साल के मासूम ने तोड़ा दम, पिता बोले...
बिहार

सहरसा: सवा घंटे तक जाम में फंसी रही एंबुलेंस, छह साल के मासूम ने तोड़ा दम, पिता बोले...

नगर संवाददाता,सहरसाPublished By: Sneha Baluni
Wed, 04 Aug 2021 11:21 AM
सहरसा: सवा घंटे तक जाम में फंसी रही एंबुलेंस, छह साल के मासूम ने तोड़ा दम, पिता बोले...

बिहार के सहरसा जिले में बीते सोमवार को शहर के भारतीय नगर निवासी अमरदीप शर्मा के छह वर्षीय मासूम बच्चे आदर्श की मौत हो गई। मासूम की मौत की वजह शहर में जाम की समस्या बनी। जो लगातार लोगों की परेशानी का सबब बन गया है। लगातार लोग जाम में दिन भर घंटों फंसे रहते हैं। 

पीड़ित अमरदीप शर्मा ने बताया कि वह भारतीय नगर में रहता है। उसकी बच्चे की तबीयत खराब हो गई। जिसके बाद उसने एंबुलेंस मंगवाई और राइस मिल परिसर स्थित एक डॉक्टर के क्लिनिक जा रहे थे। लेकिन बंगाली बाजार में भीषण जाम की समस्या बनी हुई थी। 

जाम की वजह से लगभग सवा घंटे तक एंबुलेंस फंसी रही। चिकित्सक के क्लिनिक के पास पहुंचने का कोई फायदा नहीं मिला और बच्चे की मौत हो गई। मौत के बाद पीड़ित पिता ने अपनी पीड़ा व्यक्त करते हुए कहा कि सहरसा में अगर आज ओवरब्रिज होता तो शायद मेरा बेटा जिंदा होता। बच्चे की मौत की सूचना के बाद बाद घर में हर तरफ मातम फैल गया। 

सड़क जाम करने पर पुलिस ने किया गिरफ्तार

जाम की समस्या के कारण छह महीने के मासूम बच्चे की मौत के बाद जहां परिजनों में गम का माहौल है। वहीं घटना के बाद जिले वासियों के द्वारा दुख के साथ ही आक्रोश जताया जा रहा है। इससे पहले भी कई बार जाम की समस्या जानलेवा बन चुकी है। जाम के कारण लोगों की परेशानी लगातार कम नहीं हो रही है। 

इधर घटना के बाद कोसी युवा संगठन के संस्थापक सह आम आदमी पार्टी के नेता सोहन झा शंकर चौक समीप अपने समर्थकों के साथ सड़क जाम करते हुए आक्रोश का इजहार किया। मामले की जानकारी मिलने पर पुलिस द्वारा उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

बढ़ता गया निर्माण खर्च

ओवरब्रिज निर्माण के लिए 2000 को पूर्व रेल राज्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने पहली बार शिलान्यास किया। उस समय निर्माण की लागत 9.35 करोड़ थी। 2005 को पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव ने इसका शिलान्यास किया। उस समय लागत 15 करोड़ तय की गई। फिर 2014 को पूर्व रेल राज्य मंत्री अधीर रंजन चौधरी ने तत्कालीन सांसद शरद यादव की मौजूदगी में शिलान्यास किया और लागत राशि 57.54 करोड़ तय की गई।

संबंधित खबरें