DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › पटना से मधुबनी के लिए एंबुलेंस ने मांगे 25000 रुपये, मालिक पर FIR, 3 अस्पताल को भेजा नोटिस
बिहार

पटना से मधुबनी के लिए एंबुलेंस ने मांगे 25000 रुपये, मालिक पर FIR, 3 अस्पताल को भेजा नोटिस

वरीय संवाददाता,पटनाPublished By: Sneha Baluni
Fri, 07 May 2021 10:01 PM
पटना से मधुबनी के लिए एंबुलेंस ने मांगे 25000 रुपये, मालिक पर FIR, 3 अस्पताल को भेजा नोटिस

दो निजी एंबुलेंस और तीन अस्पताल के खिलाफ लोगों ने शिकायत की। जिसके बाद धावा दल ने मौके पर पहुंचकर कार्रवाई की हैं। एक एंबुलेंस जब्त किया गया है और मालिक और चालक दोनों के खिलाफ एफआईआर गांधी मैदान थाना में दर्ज किया गया हैं। 

वहीं तीन निजी अस्पतालों को अधिक राशि वसूलने के खिलाफ नोटिस दिया गया है। जिसमें से एक नन कोविड अस्पताल है जो कोविड मरीज का इलाज कर रहा था और अधिक राशि भी वसूला था। जिसपर प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया गया है।

निजी एंबुलेंस के खिलाफ शिकायत की जांच के लिए प्रशासन द्वारा जारी व्हाट्सएप नंबर 6287590563 पर शुक्रवार को आरपीएस मोड़ निवासी अनिल सिंह द्वारा शिकायत की गई कि पटना से बेगूसराय के लिए निजी एंबुलेंस (बिना ऑक्सीजन) के 16000 रुपये की मांग की जा रही है जो सरकार द्वारा निर्धारित दर से काफी अधिक है।

मामले की गंभीरता को देखते हुए धावा दल द्वारा त्वरित कार्रवाई की गई। जांच के बाद आरोप सही पाया गया। मजिस्ट्रेट अनिल कुमार सिंह द्वारा गांधी मैदान थाना में एंबुलेंस मालिक बच्ची देवी, हनुमान नगर तथा चालक पंकज कुमार के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

पटना से मधुबनी के लिए मांगा 25000 रुपये
वहीं दूसरी शिकायत आयी थी कि निजी एंबुलेंस से पटना से मधुबनी जाने के लिए। एंबुलेंस चालक ने शिकायतकर्ता से 25000 रुपये की मांग की। जिला प्रशासन द्वारा जारी नंबर पर शिकायत की गई और धावा दल ने जांच शुरू की। लेकिन चालक ने अपना मोबाइल नंबर बंद कर लिया जिसके कारण वो पकड़ में नहीं आ पाया। 

धावा दल उक्त नंकर को ट्रेस करा रहा है। पकड़े जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। जिलाधिकारी डॉ.चंद्रशेखर सिंह ने बताया कि कोविड संक्रमण से प्रभावित मरीजों के परिवहन के लिए निजी एंबुलेंस चालकों द्वारा मनमाना एवं अधिक किराया मांगे जाने से संबंधित शिकायतों की जांच एवं कार्रवाई का कार्य लगातार जारी रहेगा तथा दोषी के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

इस क्रम में धावा दल द्वारा पीएमसीएच, फोर्ड हॉस्पिटल, शरनम हॉस्पिटल, रुबन हॉस्पिटल, मेडीपार्क हॉस्पिटल मलाही पकड़ी कंकड़बाग स्थित कई अस्पतालों का भ्रमण कर जांच अभियान चलाया गया जो लगातार जारी रहेगा।

तीन अस्पतालों को नोटिस दर्ज होगा एफआईआर
धावा दल  ने सैम्फोर्ड हॉस्पिटल, सारांश हॉस्पिटल एवं श्री इमरजेंसी हॉस्पिटल का औचक निरीक्षण किया गया। सैम्फोर्ड हॉस्पिटल की जांच के क्रम में पाया गया कि सरकार द्वारा निर्धारित दर से अधिक राशि लिया जा रहा है। इस संबंध में संबंधित अस्पताल के खिलाफ नोटिस जारी  करने का निर्देश दिया गया है। 

सारांश हॉस्पिटल (नन कोविड) हॉस्पिटल है फिर भी कोरोना का इलाज किया जा रहा है तथा अत्यधिक राशि लेने संबंधी शिकायत पाई गई। इस अस्पताल के खिलाफ नोटिस निर्गत करने तथा एफआईआर दर्ज करने का सख्त निर्देश दिया गया है। साथ ही श्री इमरजेंसी हॉस्पिटल (नन कोविड) है किंतु कोरोना का इलाज किया जा रहा है। 

इस अस्पताल के विरुद्ध नोटिस निर्गत करने का निर्देश दिया गया है। जिलाधिकारी ने धाबा दल टीम को स्त्रिरय एवं तत्पर होकर निजी एंबुलेंस एवं निजी अस्पतालों के लिए निर्धारित सरकारी दर संबंधी आदेश का सख्ती से अनुपालन सुनिश्चित कराने तथा आदेश का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

निजी अस्पतालों में चिपकाई जाएगी सरकारी दर
जिलाधिकारी डॉ.चंद्रशेखर सिंह ने बताया कि सभी निजी अस्पतालों में जहां कोविड मरीजों के इलाज की अनुमति दी गई है। उनके काउंटर और जहां मरीज भर्ती होंगे वहां पर निर्धारित सरकारी दर को चिपकाया जाएगा ताकि मरीज और परिजनों को पता चल सके। इसके बावजूद अगर अधिक राशि ली जाएगी और शिकायत मिलेगी तो कार्रवाई होगी।

संबंधित खबरें