ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारआम के बाद विवाद के केंद्र में पति, भागलपुर यूनिवर्सिटी की दो महिला प्रोफेसर आमने-सामने; जानें क्या है मामला

आम के बाद विवाद के केंद्र में पति, भागलपुर यूनिवर्सिटी की दो महिला प्रोफेसर आमने-सामने; जानें क्या है मामला

सिमरन भारती ने कहा है कि सारे आरोप गलत हैं। उन्हें बेवजह टारगेट किया जा रहा है। जहां तक पति के साथ रहने का सवाल है, विवि जो नियम तय कर देगा, उसे ही वह मानेंगी। मानसिक प्रताड़ना का भी आरोप लगाया।

आम के बाद विवाद के केंद्र में पति, भागलपुर यूनिवर्सिटी की दो महिला प्रोफेसर आमने-सामने; जानें क्या है मामला
Sudhir Kumarहिन्दुस्तान,भागलपुरMon, 17 Jun 2024 08:04 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के भागलपुर स्थित तिलका मांझी यूनिवर्सिटी  इन दिनों अजीब तरह के विवादों को लेकर चर्चा हैं। यूनिवर्सिटी के लालबाग परिसर स्थित गर्ल्स हॉस्टल 4 और गर्ल्स हॉस्टल 5 की अधीक्षक के बीच विवाद गहरा गया है। इस मामले में 5 नंबर हॉस्टल की अधीक्षक डॉ. शोभा कुमारी और हॉस्टल 4 की अधीक्षक सिमरन भारती ने एक-दूसरे पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। इसमें डॉ. शोभा ने सिमरन पर आरोप लगाया है कि वह हॉस्टल नंबर 5 की अधीक्षक नहीं होते हुए भी वहां रह रही है। इसके पहले गर्ल्स हॉस्टल परिसर में बगीचे से आम तोड़ने को लेकर दोनों भिड़ गई थीं। डीएसडब्ल्यू के हस्तक्षेप के बाद मामला ठंडा हुआ था। लेकिन अब पति के साथ हॉस्टल में रहने पर मामला फिर से फंस गया है।

दरअसल गर्ल्स हॉस्टल में पुरुषों के रहने की पाबंदी है।  फिर भी वह अपने पति के साथ वहां रहती है। इसके अलावा डॉ. शोभा का आरेाप है कि उन्होंने अधीक्षक आवास के कमरे को भीतर से तोड़कर हॉस्टल के स्टोर से मिला लिया है। इससे हॉस्टल में स्टोर नहीं है। इस मामले को लेकर हॉस्टल की छात्राओं ने भी 22 मई को डीएसडब्ल्यू डॉ. बिजेंद्र कुमार को लिखित शिकायत दी है। इसमें कहा गया है कि 21 मई की रात अधीक्षक आवास के कारण पूरे हॉस्टल में अशांति की स्थिति हो गई थी। उन लोगों ने भी अधीक्षक के पति को वहां से हटाने की मांग की है।

तिलका मांझी भागलपुर यूनिवर्सिटी में आम के लिए भिड़ गईं दो महिला प्रोफेसर, DSW ने लिया एक्शन

मानसिक प्रताड़ना का आरोप

इस मामले को लेकर सिमरन भारती ने कहा है कि सारे आरोप गलत हैं। उन्हें बेवजह टारगेट किया जा रहा है। जहां तक पति के साथ रहने का सवाल है, विवि जो नियम तय कर देगा, उस नियम को ही वह मानेंगी। साथ ही उन्होंने डॉ. शोभा पर मानसिक रूप से प्रताड़ित करने समेत कई गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि किसी शिक्षक को प्रोबेशन पीरियड में प्रशासनिक पद कैसे दिया जा सकता है। उन्होंने डॉ. शोभा के अधीक्षक पद की नियुक्ति पर सवाल उठाते हुए लिखित शिकायत डीएसडब्ल्यू से की है। 

कमेटी बनाकर होगी जांच

डॉ. शोभा ने आरोपों को गलत बताते हुए डॉ सिमरन ने कहा है कि विवि जो तय करेगी, उसे ही माना जाएगा। इस मामले को लेकर डीएसडब्ल्यू डॉ. बिजेंद्र कुमार का कहना है कि दोनों अधीक्षकों ने एक-दूसरे पर कई गंभीर आरेाप लगाते हुए लिखित शिकायत दी है। मामले को लेकर एक चार सदस्यीय कमेटी बनाई जाएगी। जो पूरे मामले की जांच करेगी। दोनों द्वारा लगाए गए आरोपों को लेकर जल्द निर्णय लिया जाएगा। यही नहीं, शिकायत यदि सही पाई जाती है तो कार्रवाई होगी। मामले से कुलपतिप्रो. जवाहर लाल को भी अवगत कराया जाएगा।