ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारतो सब मंदिर मस्जिद तुड़वाकर अस्पताल बनवा दें, गिरिराज के बाद तेजस्वी पर बरसे सुशील मोदी, पूछा- तिरुपति क्यों गए थे

तो सब मंदिर मस्जिद तुड़वाकर अस्पताल बनवा दें, गिरिराज के बाद तेजस्वी पर बरसे सुशील मोदी, पूछा- तिरुपति क्यों गए थे

सुशील मोदी ने कहा है कि तेजस्वी स्वास्थ्य मंत्री हैं तो बिहार के सभी मंदिर मस्जिद को तुड़वाकर अस्पताल बना दें। अगर उन्हें मंदिर की जरूरत नहीं है तो 50 लाख खर्च करके परिवार तिरुपति बालाजी क्यों गए थे?

तो सब मंदिर मस्जिद तुड़वाकर अस्पताल बनवा दें,  गिरिराज के बाद तेजस्वी पर बरसे सुशील मोदी, पूछा- तिरुपति क्यों गए थे
Sudhir Kumarलाइव हिंदुस्तान,पटनाFri, 05 Jan 2024 08:44 AM
ऐप पर पढ़ें

राम मंदिर को लेकर तेजस्वी यादव द्वारा दिए गए विवादित बयान पर गिरिराज सिंह के बाद सुशील मोदी डिप्टी सीएम पर हमला किया है। उन्होंने कहा है कि तेजस्वी यादव  स्वास्थ्य मंत्री हैं तो बिहार के सभी मंदिर मस्जिद को तुड़वाकर अस्पताल बनवा दें। अगर उन्हें मंदिर की जरूरत नहीं है तो 50 लाख खर्च करके पूरे परिवार तिरुपति बालाजी क्यों गए थे?  तेजस्वी यादव ने मधुबनी में कार्यक्रम के दौरान मंदिर की उपयोगिता पर सवाल उठाए थे। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी तंज कसा था। 

22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर का उद्घाटन होना है। रामला की प्राण प्रतिष्ठा के पहले इस पर जोड़ों की सियासत जारी है।  राजद नेता और बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने मधुबनी में कार्यक्रम के दौरान लोगों से पूछा कि आपको भूख लगेगी तो मंदिर में खाना मिलेगा?  बीमार होने पर अस्पताल जाएंगे या मंदिर जाकर पंडित से दिखाएंगे?  तेजस्वी के बयान पर भाजपा नेताओं ने मोर्चा खोल दिया है। तेजस्वी ने यह भी कहा था कि राम जी अगर चाहते तो अपना कितना महल बनवा लेते।  उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इंतजार नहीं करना पड़ता। 

 पत्रकारों से बात करते हुए भाजपा के राज्यसभा सांसद और पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने तेजस्वी यादव से पूछा है कि मंदिर जरूरी नहीं है तो  स्वास्थ्य मंत्री की हैसियत से सभी मंदिर मस्जिदों को तुड़वा कर वहां अस्पताल क्यों नहीं खोल देते?  सुशील मोदी ने कहा कि कोई बीमार पड़ेगा तो बेशक अस्पताल जाएगा। लेकिन, मानसिक और आध्यात्मिक शांति के लिए मंदिर की आवश्यकता होती है।  जीवन के लिए राम और रोटी दोनों आवश्यक है क्योंकि इनमें कोई विरोधाभास नहीं है।  नौकरी के साथ-साथ ईश्वर की प्रार्थना भी जरूरी है।   

सुशील मोदी ने कहा कि अगर मंदिर जाना जरूरी नहीं है तो तेजस्वी यादव तिरुपति क्यों गए थे। चार्टर्ड प्लेन में 50 लख रुपए खर्च करके बाल छिलवाने के लिए तिरुपति क्यों जाना पड़ा?  उन्होंने कहा कि देश में मर्यादा पुरुषोत्तम राम सबके दिलों में बसे हैं। उन्हें कोई निकाल नहीं सकता केवल बयानबाजी की जा सकती है। 

इससे पहले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने तेजस्वी यादव को उनके बयान के लिए निशाने पर लिया था। उन्होंने कहा था कि सैकड़ो वर्षों के संघर्ष के बाद राम मंदिर के रूप में हिंदू आस्था का पुनर्जागरण हो रहा है।  तेजस्वी यादव इसमें व्यवधान पैदा करना चाहते हैं।  इसीलिए ऐसा बयान दे रहे हैं। अगर मंदिर जरूरी नहीं है तो पटना के हज भवन में भी अस्पताल खुलवा दें। गिरिराज सिंह ने तेजस्वी के पिता लालू यादव पर भी निशान साधा। कहा कि जब अयोध्या में राम भक्तों पर लाठी चल रही थी उस समय भी लालू प्रसाद यादव ने मुलायम सिंह का समर्थन किया था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें