ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारबक्सर में ददन पहलवान के बाद उनके बेटे ने भी किया नामांकन, बीजेपी और आरजेडी की बढ़ाएंगे टेंशन?

बक्सर में ददन पहलवान के बाद उनके बेटे ने भी किया नामांकन, बीजेपी और आरजेडी की बढ़ाएंगे टेंशन?

Bihar Lok Sabha Elections 2024: बक्सर लोकसभा सीट पर से पूर्व मंत्री ददन पहलवान और उनके बेटे निर्भय यादव ने नामांकन कर मुकाबले को दिलचस्प बना दिया है। वहीं आरजेडी और बीजेपी की टेंशन भी बढ़ गई है।

बक्सर में ददन पहलवान के बाद उनके बेटे ने भी किया नामांकन, बीजेपी और आरजेडी की बढ़ाएंगे टेंशन?
Malay Ojhaलाइव हिन्दुस्तान,बक्सरWed, 15 May 2024 10:15 PM
ऐप पर पढ़ें

Bihar Lok Sabha Elections 2024: बिहार के हॉट सीटों में शामिल बक्सर लोकसभा सीट से पूर्व मंत्री ददन पहलवान और उनके बेटे निर्भय यादव ने नामांकन कर मुकाबला दिलचस्प बना दिया है। राजनीतिक जानकारों के अनुसार ददन पहलवान और उनके बेटे बीजेपी प्रत्याशी मिथलेश तिवारी और आरजेडी उम्मीदवार सुधाकर सिंह की टेंशन बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा पूर्व आईपीएस आनंद मिश्रा ने भी नामांकन दाखिल कर दोनों बड़े राजनीतिक दलों की मुश्किलें बढ़ा दी है। बता दें कि सातवें और अंतिम चरण में 1 जून को बक्सर में मतदान होगा। इस सीट पर ददन पहलवान और उनके पुत्र निर्भय यादव सेमत 22 निर्दलीय एवं पांच दलीय प्रत्याशियों ने नामांकन भरा है। 

राजनीतिक जानकार बताते हैं कि जिस MY (मुस्लिम और यादव) समीकरण के बदौलत राजद प्रत्याशी सुधाकर सिंह और ब्राह्मण समाज बहुल के बदौलत भाजपा प्रत्याशी मिथलेश तिवारी दम भर रहे थे, स्थानीय उम्मीदवारों के चुनावी मैदान में उतरने के बाद मुकाबला रोमांचक हो गया है।  बीजेपी नेताओं की माने तो इस लोकसभा सीट की महत्ता को देखते हुए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 28 मई को बक्सर में जनसभा कर सकते हैं। वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बक्सर लोकसभा क्षेत्र में कुल तीन सभा करेंगे। इसके अलावा मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री समेत भाजपा शासित कई प्रदेशों के सीएम इस लोकसभा सीट को जीतने के लिए पूरे दमखम के साथ चुनावी सभाएं करेंगे। गौरतलब है कि 10 मई को तेजस्वी यादव पहले ही ऐतिहासिक किला मैदान से राजद प्रत्याशी के पक्ष में सभा को सम्बोधित कर चुके हैं।

काराकाट में रोमांचक हुआ मुकाबला, पवन सिंह और उनकी मां का नामांकन मंजूर; कौन वापस लेगा पर्चा?

वहीं दूसरी ओर असम के पूर्व आईपीएस अधिकारी आनंद मिश्रा के नामांकन के बाद एक और स्थानीय आनंद मिश्रा ने भी निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन कर दिया है, जिससे इस लोकसभा सीट का समीकरण पूरी तरह से बिगड़ गया है। राजनीतिक जानकारों के अनुसार ददन पहलवान और उनके बेटे ने इस लोकसभा सीट की राजनीतिक सरगर्मी को बढ़ा दिया है। जिस मुस्लमान वोट पर लालू यादव की पार्टी आरजेडी की निगाहें थी, उसमें भी ददन पहलवान ने ओवैसी और हिना साहब का समर्थन लेकर सेंध लगा दिया है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें