ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारमां की डांट के डर से 13 साल के लड़के ने रची खुद के अपहरण की साजिश, पुलिस को चढ़वा दिया पहाड़

मां की डांट के डर से 13 साल के लड़के ने रची खुद के अपहरण की साजिश, पुलिस को चढ़वा दिया पहाड़

कैमूर में एक 13 साल के लड़का नीरा पीने के बाद होश खो बैठा। वो पहाड़ी पर चढ़कर बेहोश हो गया। जब आंख खुली तो खुद को अकेला पाकर डर गया। फिर मां को फोन कर खुद के अपहरण की झूठी कहानी सुना दी।

मां की डांट के डर से 13 साल के लड़के ने रची खुद के अपहरण की साजिश, पुलिस को चढ़वा दिया पहाड़
kaimur police
Jayesh Jetawatहिन्दुस्तान,भभुआSat, 22 Jun 2024 09:42 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के कैमूर जिले से चौंकाने वाला सामने आया है। यहां एक 13 साल के लड़के ने खुद के अपहरण की झूठी साजिश रच दी। पुलिस उसकी तलाश में पहाड़ पर पहुंच गई। बताया जा रहा है कि चाचा के साथ नीरा पीने के बाद वह रास्ता भटक गया था और पहाड़ी पर चला गया था। फिर मां की डांट के डर से उसने फोन कर अपहरण की कहानी सुनाई। आनन-फानन में पुलिस उसे बरामद कर वापस लेकर आई। पुलिस ने जब उससे पूछताछ की तो सच सामने आया।

रामपुर के एसडीपीओ शिवशंकर कुमार ने शनिवार को इसकी दी। उन्होंने बताया कि डायल 112 नंबर वैन की पुलिस को सूचना मिली कि अपराधी एक किशोर का अपहरण कर पहाड़ पर ले गए हैं। पुलिस द्वारा उसे बरामद कर रामपुर सीएचसी में इलाज कराया गया। यहां पर कुछ लोगों ने उसके बयान का वीडियो क्लिप बनाया था, जिसमें किशोर द्वारा अपहरण करने एवं नशीली दवा खिलाने की बात कही जा रही है।

किशोर ने बताया था कि उसे अपराधी ले गए और नशा की गोली खिला दी। सूचना देकर बच्चे के गार्जियन को बुलाया गया। पूछताछ के दौरान बच्चे ने पुलिस को बताया कि अज्ञात अपराधी उसका हाथ-पैर बांधकर ले गए। बदमाशों ने उसे बेहोश करने वाली दवाई खिलाई। उसके मोबाइल पर चाचा का फोन आया तो चाचा को बताया कि तीन-चार लोगों द्वारा जान मारने के लिए पहाड़ पर लाया गया है। उसके बाद चाचा पुलिस के साथ आए और उसे पहाड़ से उतारकर अस्पताल लाए।

पुलिस द्वारा पूछताछ करने पर उसने बताया कि वह अपने पापा के ननिहाल उचिनर नेवता देने के लिए चाचा सतेन्द्र कुमार के साथ गत 20 जून को गया था। रास्ते में चाचा के साथ ज्यादा नीरा पी ली। जैसे ही उचिनर पहुंचा तो चाचा के मोबाइल पर मौसेरी बहन का फोन आया। उससे बात करते हुए पहाड़ी पर चला गया। कुछ देर बाद चक्कर आने लगे और आंख के सामने अंधेरा छा गया। कुछ समय के बाद होश आया तो खुद को पहाड़ी पर पाया। वह नीचे उतरने में असमर्थ था। फिर उसने डर के मारे अपनी मां के मोबाइल पर फोन कर अपहरण की झूठी बात कही।