ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारचुनाव कार्य में इतनी सी लापरवाही गुरुजी पर भारी; वेतन बंद, लटक रही FIR की तलवार

चुनाव कार्य में इतनी सी लापरवाही गुरुजी पर भारी; वेतन बंद, लटक रही FIR की तलवार

दो चरणों में मतदान का प्रतिशत कम होने से चिंतित प्रशासनिक तंत्र काफी सजग हो गया है। पोलिंग बूथ पर मतदाताओं के लिए पूरी सुविधा बहाल कराने की प्रक्रिया तेज कर दी गयी है। शौचालय की व्यवस्था की जा रही है।

चुनाव कार्य में इतनी सी लापरवाही गुरुजी पर भारी;  वेतन बंद, लटक रही FIR की तलवार
Sudhir Kumarहिन्दुस्तान,दरभंगाSat, 27 Apr 2024 02:57 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2024 के दो चरणों में मतदान का प्रतिशत कम होने से चुनाव आयोग और प्रशासन की चिंता बढ़ गई है। पोलिंग बूथों पर मतदाताओं की सुविधाओं का ख्याल रखने के लिए प्रयास तेज कर दिए गए हैं। खबर दरभंगा से है जहां एक गुरुजी का मामूली सी लापरवाही के लिए वेतन बंद कर दिया गया है और उनपर एफआईआर की तलवार लटक रही है। जानकारी के अनुसार जाले बीडीओ सह सहायक निर्वाचन निबंधन पदाधिकारी दीनबंधु दिवाकर ने मतदान केन्द्रों पर महिला और पुरुष मतदाताओं के लिए अलग-अलग शौचालय बनवाने में रुचि नहीं दिखाने के आरोप में प्राथमिक विद्यालय नरौछ धाम मकतब के एचएम पर विधिसम्मत कार्रवाई करने के लिए बीईओ को पत्र लिखा है।

बीडीओ ने अपने पत्र में कहा है कि चुनाव आयोग की ओर से सभी मतदान केंद्रों पर मतदाताओं के लिए न्यूनतम सुविधा उपलब्ध करवाने का निर्देश दिया जा चुका है। सुविधाओं में मतदान केंद्रों पर महिला एवं पुरुष मतदाताओं के लिए अलग-अलग शौचालय की व्यवस्था भी उपलब्ध करवाना अनिवार्य है। उक्त मकतब में मतदान केंद्र संख्या 171 और 172 का भवन है। लेकिन शौचालय का निर्माण अभी तक नहीं कराया गया है। एचएम ने बताया कि  आसपास  के कुछ स्थानीय असामाजिक तत्व शौचालय निर्माण कार्य में बाधा उत्पन्न कर रहे हैं। 

बीडीओ का कहना है कि एचएम ने ऐसे तत्व के विरुद्ध अभी तक किसी प्रकार की विधिसम्मत कार्रवाई के लिए पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं करवाई है। इसलिए संबंधित एचएम आरोपी के विरुद्ध 24 घंटे में एफआईआर दर्ज नहीं करवाते हैं तो उनके विरुद्ध कार्रवाई करने की कृपा की जाए। बीडीओ ने पहले एचएम मो. गुलाब रब्बानी के वेतन निकासी पर रोक लगा देने और उनके विरुद्ध निर्वाचन प्रक्रिया में बाधा उत्पन्न करने के साथ साथ शिक्षा के अधिकार अधिनियम के प्रावधानों के अनुपालन में बाधा उत्पन्न करवाने के लिए विभागीय कार्रवाई करने को कहा है।

बिहार में कुल सात चरणों में लोकसभा के चुनाव हो रहे हैं। अबतक दो चरणों के मतदान 19 अप्रैल और 26 अप्रैल को हो चुके हैं। दोनों चरणों में 2019 की तुलना में कम मतदान हुए हैं। चुनाव आयोग मतदान का प्रतिशत बढ़ाने के लिए कृत संकल्प है। शेष चरणों में होने वाले चुनाव में मतदान केंद्रों पर सभी प्रकार की सुविधाएं बहाल करने का निर्देश दिया गया है।