ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारफरार IPS आदित्य कुमार का पटना कोर्ट में सरेंडर, फर्जी चीफ जस्टिस से DGP को पैरवी कराने के बाद से फरार थे

फरार IPS आदित्य कुमार का पटना कोर्ट में सरेंडर, फर्जी चीफ जस्टिस से DGP को पैरवी कराने के बाद से फरार थे

भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप में सात माह से फरार चल रहे गया के तत्कालीन एसएसपी आदित्य कुमार को सुप्रीम कोर्ट से भी राहत नहीं मिली। आखिरकार मंगलवार को आदित्य ने सरेंडर कर दिया। वह सात माह से फरार थे।

फरार IPS आदित्य कुमार का पटना कोर्ट में सरेंडर, फर्जी चीफ जस्टिस से DGP को पैरवी कराने के बाद से फरार थे
Sudhir Kumarहिन्दुस्तान,पटनाTue, 05 Dec 2023 07:47 PM
ऐप पर पढ़ें

सात महीने से फरार आईपीएस अधिकारी आदित्य कुमार ने मंगलवार को पटना की अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया। आत्मसमर्पण करने के साथ उन्होंने नियमित जमानत अर्जी दायर की। आर्थिक अपराध इकाई की विशेष न्यायिक दंडाधिकारी सारिका वहालिया ने उनकी नियमित जमानत खारिज कर दी और न्यायिक हिरासत में लेते हुए उन्हें 14 दिनों के लिए बेउर जेल भेज दिया। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर आरोपित आईपीएस अधिकारी आदित्य कुमार ने पटना के आर्थिक अपराध इकाई के विशेष कोर्ट में आत्मसमर्ण कर अपनी नियमित जमानत अर्जी दायर की। आर्थिक अपराध इकाई के लोक अभियोजक ने उनकी नियमित जमानत अर्जी का पुरजोर विरोध किया। दोनों पक्षों की बहस सुनने के विशेष न्यायिक दंडाधिकारी ने आदित्य कुमार की नियमित जमानत अर्जी खारिज कर दी। मंगलवार की शाम आदित्य कुमार को पुलिस की सुरक्षा घेरे में बेउर जले ले जाया गया। बताया जाता है कि फिलहाल उन्हें जेल के आमद वार्ड में रखा गया है। 

आदित्य कुमार पर लगे हैं गंभीर आरोप 
आईपीएस आदित्य कुमार कई गंभीर आरोप लगे हैं। पटना हाईकोर्ट के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश संजय करौल के नाम पर बिहार के डीजीपी रहे एसके सिंघल को फोन कराने का मामला भी शामिल हैं। इस मामले में उनपर अपने साथी अभिषेक अग्रवाल के साथ मिलकर पूरी साजिश रचने का आरोप है। आदित्य कुमार ने अपने उपर चल रहे मामले को रफादफा कराने के लिए अभिषेक अग्रवाल से हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के नाम पर डीजीपी को कॉल कराया था। इसके अलावा बिहार सरकार के एक अन्य बड़े प्राशासनिक अधिकारी को भी बेहतर पोस्टिंग के लिए फोन करवाने का आरोप है। मामले के खुलासे के बाद ईओयू में 16 अक्टूबर 2022 को प्राथमिकी दर्ज की गई। इस मामले में अभिषेक अग्रवाल को गिरफ्तार किया गया था। हालांकि मामला दर्ज होने के बाद से ही आदित्य कुमार फरार थे। इस मामले में उनके खिलाफ गैर जमानतीय वारंट जारी था। उनकी अग्रीम जमानत अर्जी को सेसन कोर्ट और पटना हाईकोर्ट से खारिज हो चुकी है। 

सुप्रीम कोर्ट से भी नहीं मिली राहत
आदित्य कुमार इसके बाद सुप्रीम कोर्ट पहुंचे। सुप्रीम कोर्ट से भीउन्हें राहत नहीं मिली। कोर्ट ने दो सप्ताह में निचली कोर्ट में सरेंडर करने का निर्देश दिया था। इसके बाद उन्होंने आज पटना की विशेष आर्थिक अपराध इकाई की अदालत में समर्पण किया। आरोपी आदित्य कुमार की सरेंडर करने की बात वकीलों और कोर्ट परिसर में तैनात पुलिस अधिकारियों को मिली वैसे ही वहां भीड़ लग गयी। एसएसपी आदित्य कुमार पर शराब माफिया से साठगांठ कर अवैध कमाई करने का भी आरोप है।  

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें