Wednesday, January 19, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारबिहार: ब्लैक फंगस के भर्ती मरीजों में 96 प्रतिशत हैं डायबिटीज से पीड़ित, 166 पर पहुंची संख्या

बिहार: ब्लैक फंगस के भर्ती मरीजों में 96 प्रतिशत हैं डायबिटीज से पीड़ित, 166 पर पहुंची संख्या

संजय पांडेय,पटनाSneha Baluni
Thu, 27 May 2021 10:00 PM
बिहार: ब्लैक फंगस के भर्ती मरीजों में 96 प्रतिशत हैं डायबिटीज से पीड़ित, 166 पर पहुंची संख्या

ब्लैक फंगस के लगभग 96 प्रतशित मरीजों में डायबिटीज की बीमारी भी पाई जा रही है। पटना के अस्पतालों में भर्ती 166 मरीजों में से सिर्फ आठ ऐसे मरीज हैं, जिनमें डायबिटीज नहीं पायी गयी है। बाकी 158 ऐसे मरीज हैं, जो डायबिटीज के साथ कोरोना से भी ग्रसित थे। एम्स पटना में गुरुवार शाम तक 72 कोरोना संक्रमित भर्ती थे। 

कोरोना के नोडल पदाधिकारी डॉ. संजीव कुमार ने बताया कि इनमें चार ऐेसे मरीज हैं, जिनको डायबिटीज नहीं है। उन्होंने बताया ब्लैक फंगस म्यूकर माइकोसिस से पीड़ित इक्के-दुक्के लोग ही ऐसे हैं जो डायबिटीज से पीड़ित नहीं हैं। ऐसे लोग लंबे समय तक कोरोना संक्रमित रहने, स्टेरायड और ऑक्सीजन का इस्तेमाल करने से ब्लैक फंगस के शिकार हो गए हैं। 

ग्रामीण इलाके के कुछ लोग डायबिटीज से पीड़ित नहीं होने के बावजूद ब्लैक फंगस से संक्रमित हैं। ऑक्सीजन लेने में बरती गई असावधानी भी इसका कारण हो सकता है। वहीं आईजीआईएमएस के नेत्र रोग विभाग के अध्यक्ष डॉ. विभूति प्रसन्न सिन्हा ने बताया कि आईजीआईएमएस में पहले दिन भर्ती किए गए 43 मरीजों में से 42 में डायबिटीज पाया गया। 

अभी वहां 88 भर्ती संक्रमितों में मात्र चार ऐसे हैं जो डायबिटीज पीड़ित नहीं हैं। गुरुवार को ओपीडी में आए 10 संदिग्ध में से सभी डायबिटीज से पीड़ित हैं। इनमें ब्लैक फंगस जैसे लक्षण मिलने के कारण जांच के लिए भर्ती किया गया है। वहीं पीएमसीएच में भर्ती सभी छह मरीजों को डायबिटीज है।  

अनियंत्रित डायबिटीज भी ब्लैक फंगस का बड़ा कारण
कोरोना पीड़ितों में अनियंत्रित डायबिटीज भी ब्लैक फंगस का बड़ा कारण है। आईजीआईएमएस के डॉ. विभूति प्रसन्न सिन्हा ने बताया कि अस्पताल में भर्ती होने वाले अधिकांश मरीज ऐसे हैं जिनका शुगर का स्तर अनियंत्रित था। कई ऐसे लोग भी हैं जो सुबह में खुद से शुगर लेवल जांच कर संतुष्ट हो जाते थे। लेकिन पूरे दिन के खाने-पीने के बाद शुगर का स्तर पता नहीं कर पाते थे। ऐसे लोग भी बड़ी संख्या में अस्पताल पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि डायबिटीज पीड़ित कोरोना संक्रमितों को पूरी कड़ाई से अपने शुगर लेवल को नियंत्रित रखना चाहिए।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें