DA Image
20 अप्रैल, 2021|3:20|IST

अगली स्टोरी

सेना में भर्ती के लिए पटना में 64 हजार युवाओं का जमावड़ा

                                                                                 14

सेना में भर्ती होने के लिए राज्य के सात जिलों के युवाओं का पटना में जमावड़ा लगना शुरू हो गया है। 2 सितम्बर (सोमवार) को दानापुर के केएलपी कंपलेक्स में 4665 उम्मीदवारों ने पहले दिन अपना फिटनेस टेस्ट दिया। यह टेस्ट 14 दिनों तक चलेगा। इस टेस्ट के जरिए पटना, भोजपुर, बक्सर, सारन, गोपालगंज, सीवान और वैशाली जिलों के अभ्यर्थियों को सेना में भर्ती होने का मौका मिलेगा। फिटनेस टेस्ट के तहत अभ्यर्थियों को शारीरिक माप, दौड़, ऊंची कूद, लंबी दौड़ आदि परीक्षण से गुजरना पड़ता है। इसके बाद सेना की टीम द्वारा अभ्यर्थियों के अकादमिक प्रमाण पत्रों की जांच की जाती है। इन परीक्षणों में पास अभ्यर्थियों को चिकित्सा जांच के लिए समय दिया जाता है। चिकित्सा जांच में सफल होने वाले उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा में भाग लेने का मौका मिलता है। लिखित परीक्षा के आधार पर अंतिम रूप से चयनित अभ्यर्थियों की सेना में सिपाही और क्लर्क स्तर के विभन्न पदों पर नियुक्ति की जाती है। 

भर्ती प्रक्रिया मुफ्त, दलालों से सावधान रहें 
बिहार और झारखंड के डिप्टी डाइरेक्टर जनरल (डीडीजी) ब्रिगेडियर एचएस जग्गी ने कहा है कि फिजिकल फिटनेस के बाद अभ्यर्थियों की मेडिकल जांच की जाएगी। इसके बाद लिखित परीक्षा के लिए बुलाया जाएगा। लिखित परीक्षा 24 नवंबर 2019 और 19 जनवरी 2020 को आयोजित होगी। इसी परीक्षा के आधार पर सफल अभ्यर्थियों को प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा। फिर इन्हें सेना की विभिन्न सेवाओं में प्रतिनियुक्त कर दिया जाएगा। ब्रिगेडियर जस्सी ने अभ्यर्थियों को हिदायत देते हुए कहा कि सेना में भर्ती की  पूरी प्रक्रिया मुफ्त और पारदर्शी है। इसमें किसी भी तरह का कोई शुल्क नहीं है। उन्होंने युवाओं से कहा कि अगर कोई भी व्यक्ति भर्ती से संबंधित किसी भी तरह से पैसे की मांग करता है, तो तुरंत इसकी सूचना दें। उन्होंने कहा कि भर्ती में दलालों की कोई भूमिका नहीं है। भर्ती पूरी तरह से निष्पक्ष और योग्यता के आधार पर होती है। 

दानापुर छावनी के आसपास भारी भीड़ 
सात जिलों से सेना में भर्ती के लिए 64 हजार अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। इसमें भाग लेने के लिए सोमवार से ही दानापुर छावनी के आसपास युवाओं का जमावड़ा लगा हुआ है। चूंकि सिपाही भर्ती में शामिल होने वाले ज्यादातर युवा आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग से संबंधित हैं। इसलिए कई युवाओं को दानापुर छावनी के आसपास फुटपाथ पर ही रात बिताते हुए देखा जा रहा है। 

अतिरिक्त पुलिस की व्यवस्था
अभ्यर्थियों की भारी संख्या को देखते हुए छावनी केंद्र के अधिकारियों ने जिला प्रशासन से भारी पुलिस बल की मांग की है। सेना ने अपने बयान में कहा है कि रैली के दौरान लाइन को नियंत्रित करने, किसी तरह की बाहरी हस्तक्षेप से बचने, भीड़ को काबू में करने और रैली स्थल का घेराव करने के लिए पर्याप्त संख्या में पुलिस बल की जरूरत है। इसके लिए सड़कों पर सिविल और यातायात पुलिस की भी मांग की गई है।  

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:64 thousand youth gathered in Patna for recruitment in army