ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारबिहार में पांचवें चरण की 5 सीटों पर 55.85% वोटिंग, हाजीपुर ने बनाया रिकॉर्ड, मधुबनी में सबसे कम मतदान

बिहार में पांचवें चरण की 5 सीटों पर 55.85% वोटिंग, हाजीपुर ने बनाया रिकॉर्ड, मधुबनी में सबसे कम मतदान

बिहार में 5वें चरण की पांच सीटों पर 55.85 फीसदी मतदान हुआ। सबसे ज्यादा मुजफ्फरपुर और सबसे कम मधुबनी में वोटिंग हुआ। हाजीपुर में बीते तीन लोकसभा चुनावों से ज्यादा मतदान हुआ। वहीं 56.84% वोट पड़े।

बिहार में पांचवें चरण की 5 सीटों पर 55.85% वोटिंग, हाजीपुर ने बनाया रिकॉर्ड, मधुबनी में सबसे कम मतदान
Sandeepहिन्दुस्तान ब्यूरो,पटनाTue, 21 May 2024 05:54 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में मतदान का पांचवां चरण भी बड़ी लकीर नहीं खींच पाया। सोमवार को इस चरण की पांच सीटों पर शाम छह बजे तक 55.85 प्रतिशत मतदान हुआ। इन पांच सीटों पर 2019 के लोकसभा चुनाव में 57.07 फीसदी वोटिंग हुई थी। इस लिहाज से पिछले बार के मुकाबले 1.22 प्रतिशत कम मतदान हुआ है।  सबसे ज्यादा मुजफ्फरपुर में 58.10 तो सबसे कम मधुबनी में 52.20 मत पड़े। हाजीपुर में बूंदाबांदी के बीच पिछले तीन लोकसभा चुनावों के मतदान का रिकॉर्ड टूटा।

हाजीपुर में 56.84 फीसदी वोट पड़े जो 2019 के मुकाबले 1.62 फीसदी ज्यादा है। 2019 में 55.62 मत पड़े थे। इसके पहले 2009 में 41.83 और 2014 में 54.91 वोट पड़े थे। अन्य सभी चारों सीटों पर 2019 के मुकाबले मत प्रतिशत गिरा है। हालांकि, सोमवार को अधिकतर जगहों पर गर्मी की तपिश नहीं थी। कुछ क्षेत्रों में तो बूंदाबांदी के बीच वोट पड़े।

यह भी पढ़िए- सारण के 3 मतदान केंद्रों पर बूथ कैप्चरिंग की कोशिश, राजीव प्रताप रूडी ने चुनाव आयोग से की शिकायत

राज्य निर्वाचन आयोग के अनुसार सीतामढ़ी में 57.55 प्रतिशत, मधुबनी में 52.20 प्रतिशत, मुजफ्फरपुर में 58.10 प्रतिशत, सारण में 54.50 प्रतिशत और हाजीपुर (सु) 56.84 प्रतिशत मतदान हुआ है। इस चरण का मतदान खत्म होने के साथ ही चिराग पासवान, राजीव प्रताप रूडी, रोहिणी आचार्य, देवेशचंद्र ठाकुर, मो.एए फातमी, शिवचंद्र राम सहित 80 उम्मीदवारों का भाग्य ईवीएम में बंद हो गया। पांचवें चरण के मतदान के साथ ही, राज्य की 60 फीसदी लोकसभा क्षेत्रों (24 लोकसभा क्षेत्रों) में चुनाव संपन्न हो गया। अब छठे तथा सातवें चरण में 8-8 सीटों पर मतदान होने हैं।

पांचवें चरण की सभी सीटों के लिए 9436 बूथों पर सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक मतदान हुआ। मतदान के बाद निर्वाचन विभाग में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में बिहार के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एचआर श्रीनिवास ने बताया कि अब भी कुछ बूथों पर मतदाता कतार में खड़े हैं। इसलिए अंतिम सूचना मिलने पर मतदान प्रतिशत में बढ़ोतरी की संभावना है। 

श्रीनिवास ने बताया कि इस चरण में मुजफ्फरपुर संसदीय क्षेत्र के गायघाट के बूथ संख्या- 140 और औराई के बूथ संख्या- 13 पर विकास कार्य नहीं होने का आरोप लगाते हुए मतदान का बहिष्कार किया गया। उन्होंने बताया कि मॉक पोल के दौरान 36 कंट्रोल यूनिट (सीयू), 45 बैलेट यूनिट (बीयू) एवं 59 वीवीपैट बदले गए। जबकि मॉक पोल के बाद 28 सीयू, 32 बीयू और 86 वीवीपैट बदले गए। इस चरण में कुल 11,484 सीयू, 13,562 बीयू और 12,573 वीवीपैट का इस्तेमाल हुआ।

सारण के बड़ा तेलपा बूथ पर पहुंचीं राजद प्रत्याशी रोहिणी आचार्य के खिलाफ एक गुट के लोगों ने नारेबाजी और पथराव किया। पथराव में गाड़ियों के शीशे फूटने की चर्चा है। वहीं, रिविलगंज में पथराव में अपर थानाध्यक्ष को चोट आई। डोरीगंज में प्रशासन व ग्रामीणों में झड़प के दौरान पथराव में उत्पाद आयुक्त का सिर फट गया। सारण में कुछ बूथों पर झड़प भी हुई। 

मुजफ्फरपुर और सीतामढ़ी में जन समस्याओं को लेकर लोगों ने मतदान का बहिष्कार किया। उधर, मुजफ्फरपुर में दर्जन भर बूथों पर ईवीएम खराबी की सूचना आई। कंट्रोल रूम से तुरंत संबंधित टीम को निर्देश दिया गया, तो ईवीएम बदला गया। सारण क्षेत्र के मढौरा के पांच बूथों पर भी ईवीएम में गड़बड़ी और बीवी पैक में खराबी आने की शिकायत मिली। संबंधित टीम ने जाकर इसे दुरुस्त किया।

यह भी पढ़िए- तेजस्वी का PM मोदी पर वार, कहा-दोबारा सत्ता में आने पर लोकतंत्र खतरे में पड़ जाएगा

एडीजी, मुख्यालय जितेंद्र सिंह गंगवार ने बताया कि मतदान के दौरान 46 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया। इनमें सीतामढ़ी में 20, मधुबनी में 1, सारण में 3, दरभंगा में 22 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया। चुनाव को लेकर सीतामढ़ी एवं मधुबनी के करीब 78 किमी अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर 57 चेकपोस्ट बनाए गए थे। 40 हजार सुरक्षा बल और 18 हजार होमगार्ड तैनात किए थे।