ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारएक ही गांव के 5 बच्चे एक साथ गायब, रातभर राह देखते रहे मां-बाप, नहीं लौटे मासूम

एक ही गांव के 5 बच्चे एक साथ गायब, रातभर राह देखते रहे मां-बाप, नहीं लौटे मासूम

गया के बांकेबाजार के बिशुनपुर गांव से एक साथ गायब हुए 5 बच्चों का अभी तक कोई सुराग नहीं लगा है। लापता बच्चों में दो सगी बहने और दो सगे भाई-बहन है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

एक ही गांव के 5 बच्चे एक साथ गायब, रातभर राह देखते रहे मां-बाप, नहीं लौटे मासूम
Sandeepहिन्दुस्तान,गयाMon, 04 Dec 2023 12:23 PM
ऐप पर पढ़ें

गया जिले के बांकेबाजार के बिशुनपुर गांव से एक साथ पांच बच्चों के गायब होने से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। सभी बच्चों के माता-पिता का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है। मां अपने बच्चों के घर लौटने की राह देख रही हैं जबकि पिता की आंखें नाम है। बिशुनपुर के स्थानीय निवासी और शिक्षक दिलीप कुमार सिन्हा ने बताया कि पांच बच्चों में से चार लड़कियां हैं। दो सगी बहनें हैं। जबकि दो सगे भाई-बहन हैं। इधर, सोशल मीडिया पर भी बच्चों की फोटो वायरल कर सकुशल बरामदगी के लिए प्रार्थना की जा रही थी।

रविवार देर रात तक किशोर-किशोरियों के घर नहीं आने के बाद सभी के घर में कोहराम मचा हुआ है। बिशुनपुर गांव के राजू भुइयां की दो बेटियां, कुंदन पासवान के एक पुत्र व एक पुत्री जबकि दिनेश भुइयां की एक पुत्री रविवार शाम से लापता है। प्रिया कुमारी की चाची ललिता देवी ने रोते हुए कहा कि मेरी बेटी समान भतीजी शाम में यह कहकर निकली की चाची तुरंत घर के बाहर से आ रहे हैं लेकिन वह अब तक नहीं लौट पाई है। पता न वह कहां होगी।

छह वर्षीय सव्या कुमारी की मां कविता देवी ने बताया कि मेरी बेटी बगल में टीवी देखने के नाम पर घर से निकली थी। जब रात 8 बजे तक वह नहीं लौटी तो घर नहीं आने की चिंता सताने लगी। बड़ी बेटी को भेजकर आसपास खोजबीन शुरू की लेकिन बेटी नहीं मिल सकी। बेटी के नहीं घर नहीं आने के बाद मां बेसुध हो गई है। बात करते-करते वह बार-बार रोने लगती हैं। परिवार वालों के चेहरे पर चिंता की लकीरें साफ दिख रही थी।लापता हुए अजीत कुमार व संजू कुमारी के पिता कुंदन पासवान ने बताया कि शाम में धान के खेत में दोनों बच्चे मेरे साथ थे। घर जाने की बात कह कर मेरा बेटा खेत से निकाला लेकिन वह घर नहीं पहुंच सका। बच्चों के नहीं मिलने के बाद गांव वाले सकते में हैं। बच्चों के मां बाप का रो-रोकर बुरा हाल हो रहा है। 

स्थानीय समाजसेवी और शिक्षक नागेश्वर दास ने पुलिस से सभी बच्चों को सकुशल बरामद कर कर घर लाने की मांग की है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि पांचो बच्चे एक शादी में भोजन करने के बाद बिशुनपुर की तरफ से सड़क के रास्ते निकल गए थे, लेकिन सभी बच्चे अपने घर नहीं पहुंच सके। परिवार वालों को चिंता तब सताने लगी जब रात 8 बजे तक बच्चे अपने घर नहीं लौटे। गांव के लोगों की पांचो बच्चों के गायब होने की सूचना दी गई। ग्रामीण खोजबीन करने लगे किंतु रात 11 बजे तक बच्चों के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं मिल पाई थी।

वहीं शेरघाटी के गोपालपुर कस्बे से लापता हुई शादीशुदा लड़की का हफ्ते भर बाद भी कोई सुराग नहीं मिला है। लड़की के पिता की ओर से शेरघाटी थाने को दी गई तहरीर में कहा गया है कि इसी वर्ष उसकी शादी हुई थी, मगर कुछ महीने से वह अपने मायके में ही रह रही थी। हफ्ते भर पहले वह अचानक आधी रात को लापता हो गई।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें