ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारबिहार के 4 लाख नियोजित शिक्षकों को तीन महीने से वेतन नहीं मिला, कर्ज लेकर छठ मना रहे : सुशील मोदी

बिहार के 4 लाख नियोजित शिक्षकों को तीन महीने से वेतन नहीं मिला, कर्ज लेकर छठ मना रहे : सुशील मोदी

सुशील मोदी ने कहा कि नियोजित शिक्षकों को बीते तीन महीने से वेतन नहीं मिला है, तो बीपीएससी से चयनित टीचरों को वेतन देने के लिए 10 हजार करोड़ रुपये कहां से आएंगे।

बिहार के 4 लाख नियोजित शिक्षकों को तीन महीने से वेतन नहीं मिला, कर्ज लेकर छठ मना रहे : सुशील मोदी
Jayesh Jetawatलाइव हिन्दुस्तान,पटनाSat, 18 Nov 2023 08:31 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के करीब चार लाख नियोजित शिक्षकों को बीते तीन महीने से वेतन नहीं मिला है। पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने यह दावा किया है। उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार चार लाख नियोजित शिक्षकों को दशहरा, दिवाली, छठ जैसे बड़े त्योहारों से पहले वेतन नहीं दे पाई है। इसलिए उन्हें कर्ज लेकर त्योहार मनाना पड़ रहा है या फिर पर्व छोड़ना पड़ा है। दूसरी ओर, छठ से पहले केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने बिहार के 72.32 लाख किसानों के खाते में 1607 करोड़ रुपये भेजे हैं।

बीजेपी से राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने शनिवार को बयान जारी कर नीतीश सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि नियोजित शिक्षकों को बीते तीन महीने से वेतन नहीं मिलना अत्यंत दुखद है। नीतीश सरकार के पास सभी नियोजित और नियमित कर्मचारियों को समय पर पूरा  वेतन देने के लिए पैसे नहीं हैं, इसलिए मुख्यमंत्री ध्यान बंटाने के लिए विशेष दर्जा की मांग तेज कर रहे हैं या केंद्र सरकार पर भेदभाव का अनर्गल आरोप लगाते हैं।

उन्होंने कहा कि बीपीएससी से चयनित 1.22 लाख शिक्षकों को नियुक्ति-पत्र बांटने के लिए मेगा इवेंट और फोटो सेशन कराना आसान है, लेकिन समय पर उनका वेतन सुनिश्चित करना कठिन है। नीतीश सरकार ने शिक्षकों की नियुक्ति का पहला चरण पूरा कर लिया, लेकिन अब तक इनके वेतन मद की राशि का प्रावधान नहीं किया गया है। 

बीपीएससी से चयनित 1.20 लाख शिक्षकों को स्कूल आवंटित, 21 नवंबर तक देना होगा योगदान

सुशील मोदी ने कहा कि बीपीएससी से चयनित शिक्षकों के वेतन मद में सरकार को अतिरिक्त 10 हजार करोड़ की आवश्यकता पड़ेगी, जबकि हालत यह है कि हजारों नियोजित शिक्षकों को बिना वेतन के महीनों गुजारने पड़ रहे हैं। ऐसे में बीपीएससी से चयनित शिक्षकों को सैलरी कहां से मिलेगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें