ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारबिहार में गर्मी और लू के प्रकोप से एक दिन में 29 लोगों की मौत, गया में सीआरएपीएफ जवान की भी जान गई

बिहार में गर्मी और लू के प्रकोप से एक दिन में 29 लोगों की मौत, गया में सीआरएपीएफ जवान की भी जान गई

बिहार में बीते 24 घंटे के भीतर भीषण गर्मी और हीटवेव की वजह से 29 और लोगों की जान चली गई। मरने वालों में सीआरपीएफ का एक जवान भी शामिल है।

बिहार में गर्मी और लू के प्रकोप से एक दिन में 29 लोगों की मौत, गया में सीआरएपीएफ जवान की भी जान गई
along with plains mountains are very hot what is reason for scorching heat in uttarakhand
Jayesh Jetawatहिन्दुस्तान,पटनाWed, 19 Jun 2024 07:13 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में भीषण गर्मी का प्रकोप जारी है। सूबे में हीटवेव और गर्मी से मंगलवार को 29 लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में सबसे ज्यादा कैमूर में हुई हैं, यहां बीते 24 घंटे के भीतर 11 लोगों ने दम तोड़ दिया। इसके अलावा सासाराम में 6, मोहनियां में 3, औरंगाबाद में 3, बक्सर में 3 आरा , अरवल एवं गया में एक-एक व्यक्ति की लू से जान गई। गया जंक्शन रेलवे स्टेशन पर तैनात सीआरपीएफ के जवान की भी गर्मी से मौत हो गई। मौसम विभाग ने दक्षिण बिहार के कुछ इलाकों में बुधवार को भी भीषण गर्मी और लू की चेतावनी जारी की है।

जानकारी के मुताबिक कैमूर सदर अस्पताल में पिछले 24 घंटे में भीषण गर्मी और लू से 11 लोगों की मौत हो गई। हालांकि सिविल सर्जन डॉ. मीना कुमारी और सदर अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ. विनोद कुमार सिंह ने लू से सिर्फ भभुआ प्रखंड के करौली गांव की संजनी कुमारी की मौत होने की पुष्टि की है। अन्य लोगों की मौत की वजह नहीं बता रहे। मगर ग्रामीणों का कहना है कि मरीज गर्मी से पीड़ित थे। किसी को सांस लेने में तकलीफ थी, तो कोई उल्टी-दस्त से पीड़ित था। जिले में 11 लोगों की ताबड़तोड़ हुई मौत की स्पष्ट वजह स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी सार्वजनिक नहीं कर रहे हैं।

लू की चपेट में आए सीआरपीएफ के दो जवान, एक की मौत 
गया स्टेशन पर सीआरपीएफ के दो जवानों की अचानक तबीयत बिगड़ गई। इलाज के लिए मगध मेडिकल अस्पताल ले जाने के दौरान एक जवान की मौत हो गई। वहीं, दूसरे की हालत गंभीर है। 

गर्मी ने ट्रेन के डॉग बॉक्स में टॉमी की जान ले ली
जानलेवा गर्मी ने मंगलवार को ट्रेन के डॉग बॉक्स में टॉमी की जान ले ली। बेगूसराय की छात्रा लैब्राडोर प्रजाति के इस पालतू कुत्ते को लेकर यात्रा कर रही थी। यूपी के इटावा में उसने टॉमी को बुरी तरह हांफते देखा तो गार्ड से डॉक्टर बुलाने को कहा। कानपुर सेंट्रल पर ट्रेन पहुंची तो डॉक्टर मौजूद नहीं था। कुछ ही देर में कुत्ते ने दम तोड़ दिया तो छात्रा ने हंगामा कर दिया। किसी तरह उसे शांत किया गया। छात्रा ने ट्रेन की यात्रा छोड़ दी और टैक्सी से टॉमी का शव लेकर बेगूसराय चली गई। छात्रा दुर्गा झा सिक्किम-महानंदा एक्सप्रेस में यात्रा कर रही थी। वह दिल्ली से टॉमी को लेकर चली। पीआरओ अमित सिंह ने बताया कि मामला अभी संज्ञान में आया है। इसकी जांच कराई जाएगी।