ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारछठ घाटों पर अर्घ्य के समय 224 नावों से होगी गश्ती, 312 गोताखोर तैनात; आपदा प्रबंधन विभाग की फुल तैयारी

छठ घाटों पर अर्घ्य के समय 224 नावों से होगी गश्ती, 312 गोताखोर तैनात; आपदा प्रबंधन विभाग की फुल तैयारी

बिहार के चार हजार से ज्यादा घाटों पर छठ पूजा मनाई जा रही है। सूर्यदेव को अर्घ्य देते समय किसी भी तरह की आपात स्थिति से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन विभाग पूरी तरह मुस्तैदी हो गई है।

छठ घाटों पर अर्घ्य के समय 224 नावों से होगी गश्ती, 312 गोताखोर तैनात; आपदा प्रबंधन विभाग की फुल तैयारी
Jayesh Jetawatलाइव हिन्दुस्तान,पटनाSat, 18 Nov 2023 05:10 PM
ऐप पर पढ़ें

छठव्रतियों और अन्य श्रद्धालुओं को हादसा  से बचाने के लिए घाटों पर एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की तैनाती की गई है। बिहार के अलग-अलग जिलों में नदियों और प्रमुख तालाबों कर घाटों पर इनकी तैनाती की गई है। एनडीआरएफ की 8 टीम के 200 सदस्य अर्घ्य के दौरान गश्त करते रहेंगे। इसी तरह एसडीआरएफ की 14 टीमें तैनात की गई है। इसके 54 सदस्य अर्घ्य के दौरान सक्रिय रहेंगे। 224 नावों से भी गश्ती होगी। 312 गोताखोर को तैयार रहने के लिए कहा गया है।

आपदा प्रबंधन विभाग ने छठ पूजा को लेकर कंट्रोल रूम भी एक्टिव किया है। आपात के समय लोग विभाग को फोन करके संपर्क कर सकते हैं। कंट्रोल रूम का नंबर 0612-2294204/205 है। इसके अलावा नागरिक सुरक्षा के 151 स्वयंसेवकों को भी तैयार किया गया है, जो गोताखोरों एवं आपदा कर्मियों की मदद करेंगे।

बता दें कि बिहार में चार दिवसीय छठ पर्व का शुक्रवार को आगाज हुआ। पहले दिन नहाय खाय के साथ छठ पूजा की शुरुआत हुई। शनिवार को दूसरे दिन खरना है। छठव्रती पूरे दिन व्रत करके शाम में खीर का प्रसाद ग्रहण करेंगे। इसके बाद 36 घंटे का निर्जला व्रत शुरू हो जाएगा। 

सूर्य मंदिरों में सुरक्षा के खास इंतजाम
बिहार के सभी प्रमुख सूर्य मंदिरों और गंगा-गंडक सहित अन्य नदी घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं। इनमें औरंगाबाद के देव, पटना के उलार व पंडारक स्थित पुण्यार्क सूर्य मंदिर व अन्य सूर्य मंदिर शामिल हैं। इन सूर्य मंदिर परिसरों में छठ के मौके पर व्रतियों एवं श्रद्धालुओं की भारी भीड़ जुटने की संभावना है। इसके लिए जिला प्रशासन के माध्यम से विशेष सतर्कता बरती जा रही है।

पुलिस मुख्यालय के अनुसार सभी जगहों पर पुलिस बल एवं दंडाधिकारियों की तैनाती कर दी गई है। राज्य पुलिस मुख्यालय की ओर से जिलों को 24 हजार से अधिक अतिरिक्त पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। इनमें सात कंपनी अर्धसैनिक बलों की तैनाती पूर्व में हुए तनाव व आपराधिक वारदातों को देखते हुए चिह्नित जिलों में की गई है। दूसरी ओर, जिला पुलिस बलों को भी आवश्यकता के अनुसार व्रतियों एवं श्रद्धालुओं के सहयोग, भीड़ नियंत्रण एवं आकस्मिक सेवा उपलब्ध कराने के लिए तैनात किया गया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें