class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सड़क निर्माण कंपनी से मांगी 16 करोड़ लेवी,  एफआईआर दर्ज

firauti

खगौल से बलिदाद तक टू लेन बनाने में जुटी सड़क निर्माण कंपनी से नक्सलियों ने 16 करोड़ रुपए की लेवी की मांगकर पुलिस प्रशासन की नींद उड़ा दी है। मामला प्रकाश में आते ही थानेदार से लेकर पुलिस कप्तान तक हरकत में आ गए। एसपी दिलीप मिश्रा ने मामले की जांच और लेवी मांगने वाले को दबोचने के लिए एसआईटी गठित कर दी है। एसआईटी का नेतृत्व एएसपी अभियान अनिल कुमार सिंह को सौंपा गया है। इस मामले में कंपनी के सुपरवाइजर मनीष कुमार के बयान पर महेंदिया थाने में गणेश कुमार के विरुद्ध नामजद एफआईआर दर्ज की गई है। गणेश प्रतिबंधित संगठन भाकपा माओवादी का नेता बताया जाता है। 

मिली जानकारी के अनुसार, सिंचाई विभाग द्वारा 165 करोड़ की लागत से खगौल से बारुण तक दो चरणों में नहर पर टू लेन सड़क का निर्माण कराया जा रहा है। प्रथम चरण में खगौल से बलिदाद तक सड़क बनाई जा रही है। सड़क निर्माण का जिम्मा रामकृपाली कंस्ट्रक्शन को मिला है। कंपनी का बलिदाद में बेस कैंप है। कंपनी के सुपरवाइजर मनीष ने थाने में दिए आवेदन में लिखा है कि 29 अक्टूबर को पहली बार गणेश द्वारा उनके मोबाइल पर फोन कर दस प्रतिशत लेवी की मांग की गई थी। वह अपने आप को भाकपा माओवादी का नेता बताता है। इसके बाद लगातार फोन कर लेवी नहीं देने पर धमकी दी जा रही है। इधर, इस धमकी के बाद निर्माण में जुटी कंपनी के कर्मी काफी भयभीत हैं। उन्हें अपनी सुरक्षा का भय सताने लगा है। 

इस संबंध में एसपी ने कहा कि पुलिस घटना की तफ्तीश में जुटी है। जिस मोबाइल नंबर से लेवी मांगने की शिकायत की गई है, उसका सीडीआर निकाला गया है। पूरे मामले की गहराई से जांच की जा रही है। लेवी मांगनेवाले को गिरफ्तार करने के लिए एसआईटी गठित की गई है। निर्माण कंपनी को डरने की जरूरत नहीं है। डीएम सतीश कुमार सिंह ने कहा कि विकास कार्य में बाधा डालने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। यदि जरूरत पड़ी तो निर्माण कंपनी को सुरक्षा मुहैया करायी जाएगी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:16 crores levy FIR registered from road construction company
बिहार के इस जिले में हो रही संतरे की खेती, किसानों ने दिखायी खेती की नई राह बिहार: सीएम नीतीश करेंगे विकास कार्यों की समीक्षा यात्रा,पहले चरण में 8 जिलों में जाएंगे