ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारबिहार में मिड डे मील खाने से 171 बच्चे बीमार, उल्टी और पेट दर्द के बाद अस्पताल में भर्ती; 5 की हालत गंभीर

बिहार में मिड डे मील खाने से 171 बच्चे बीमार, उल्टी और पेट दर्द के बाद अस्पताल में भर्ती; 5 की हालत गंभीर

बिहार के पश्चिम चंपारण के बगहा में मिड डे मील खाने के बाद 171 बच्चों की हालत बिगड़ गई। बच्चों को उल्टी-दस्त और पेट दर्द के साथ चक्कर आने लगे। इस दौरान स्कूल में हड़कंप मच गया।

बिहार में मिड डे मील खाने से 171 बच्चे बीमार, उल्टी और पेट दर्द के बाद अस्पताल में भर्ती; 5 की हालत गंभीर
Malay Ojhaहिन्दुस्तान,बेतियाMon, 05 Feb 2024 07:37 PM
ऐप पर पढ़ें

पश्चिम चंपारण के बगहा-1 प्रखंड के बांसगांव परसौनी मध्य विद्यालय में सोमवार को मिड डे मील खाने के बाद 171 बच्चे बीमार हो गये। भोजन के बाद उन्हें उल्टी-दस्त और पेट दर्द के साथ चक्कर आने लगे। एक साथ इतने बच्चों के बीमार होने से स्कूल में अफरातफरी मच गई। जानकारी मिलते ही अभिभावक भी स्कूल पहुंच गए और बच्चों को लेकर बगहा अनुमंडल अस्पताल और रामनगर पीएचसी भागे। 96 बच्चों को बगहा अनुमंडल अस्पताल व 75 को रामनगर पीएचसी में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने हालत नाजुक देखकर कक्षा छह के अजीत कुमार, सातवीं के मंजीत कुमार व राजकुमार राम, चौथी के संदीप कुमार राम व आठवीं के उत्तम कुमार को जीएमसीएच, बेतिया रेफर कर दिया है। वहीं, ठीक होने वाले अधिकतर बच्चों को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है।

बच्चों के बीमार होने की सूचना पर पहुंची पुलिस ने भी अपने वाहन से बच्चों को भर्ती कराया। घटना से परिजन आक्रोशित हो गये। स्कूल में भारी भीड़ उमड़ पड़ी। परिजनों और लोगों का आक्रोश देखकर रसोइया और शिक्षक स्कूल छोड़कर फरार हो गये। सूचना पर डीईओ रजनीकांत प्रवीण भी रामनगर पीएचसी पहुंचे। उन्होंने बच्चों की हालत की जानकारी ली। डीपीओ एमडीएम कुणाल गौरव ने बताया कि मैं पटना से बैठक में शामिल होकर लौट रहा हूं। मैं सीधे अस्पताल आकर बच्चों की जानकारी लूंगा। 

पुलिस ने प्रभारी एचएम सुजीत कुमार राम को थाना लाई है। उनसे पूछताछ की जा रही है। भैरोगंज थानाध्यक्ष भरत प्रसाद ने इसकी पुष्टि की है। रामनगर पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. चंद्रभूषण ने बताया कि डॉक्टरों की टीम बच्चों का इलाज कर रही है। उनके यहां के तीन बच्चों की हालत नाजुक देखकर जीएमसीएच रेफर कर दिया गया है। शेष 72 बच्चे खतरे से बाहर हैं। 

बच्चों को जबरन खिलाया खाना 
बीआरसी से मिली जानकारी के अनुसार, भोजन में केरोसिन गिरा था। वही भोजन बच्चों को पड़ोसा गया है। मामले की जांच की जाएगी, दोषियों पर कार्रवाई तय है। बताया गया कि मिड डे मील परोसा गया तो उससे केरोसिन की गंध आ रही थी। बच्चों ने उसे खाने से इनकार कर दिया लेकिन शिक्षकों और एचएम ने बच्चों को जबरन भोजन करने को कहा। खाने के कुछ देर बाद बच्चों को उल्टी-दस्त, पेट दर्द और चक्कर आने की शिकायत होने लगी। 

बगहा-1 के उत्क्रमित मध्य विद्यालय के कुछ बच्चे बीमार हुए थे। बाकी को एहतियातन परिजनों ने भर्ती कराया है। जीएमसीएच रेफर होने वाले पांचों बच्चे की स्थिति अब ठीक है। डीईओ को 24 घंटे के भीतर जांच रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया गया है। केरोसिन वहां कैसे पहुंचा, इसकी जांच कराई जा रही है। रिपोर्ट के आधार पर दोषियों पर कार्रवाई होगी। - दिनेश कुमार राय, डीएम, पश्चिम चंपारण

प्रारंभिक जांच में भोजन में केरोसिन गिरने का मामला सामने आ रहा है। केरोसिन वहां कैसे आया, इसकी जांच की जा रही है। मिड डे मील स्कूल में ही बना था। पूरी घटना की जांच की जाएगी। दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। - रजनीकांत प्रवीण, डीईओ, पश्चिम चंपारण

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें