DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › सीवान › हुसैनगंज में दस नए चेहरों ने मुखिया पद पर जमाया कब्जा
सीवान

हुसैनगंज में दस नए चेहरों ने मुखिया पद पर जमाया कब्जा

हिन्दुस्तान टीम,सीवानPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 07:10 PM
हुसैनगंज में दस नए चेहरों ने मुखिया पद पर जमाया कब्जा

पेज चार के लिए

उल्लास

अरमानुल्लाह लगातार पांचवीं बार बने सरपंच

मतदाताओं ने नए चेहरों पर जताया है विश्वास

फोटो संख्या-09 सोमवार को जीत दर्ज करने के बाद समर्थकों के साथ सरपंच अरमानुल्लाह सिद्दीकी।

फोटो संख्या-12 जीत दर्ज करने के बाद समर्थकों के साथ सिधवल के मुखिया संदेश साह।

हुसैनगंज। एक संवाददाता

प्रखंड में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना के साथ ही चुनावी प्रक्रिया का समापन हुआ। 8 अक्टूबर को चुनाव सम्पन्न होने के बाद से ही प्रत्याशियों के दिल की धड़कनें बढ़ीं हुई थी। गहमागहमी के माहौल के बीच सुबह 8 बजे से मतगणना शुरू हुई और चुनाव के रुझान आने शुरू हुए। सबसे पहले सिधवल पंचायत की गिनती शुरू हुई। जिसके परिणामस्वरूप संदेश साह पहली बार मुखिया पद पर सुशोभित हुए। वहीं सिधवल क्षेत्र-1 से बीडीसी पद पर संगीता देवी ने कब्जा जमाया। सरपंच पद के लिए शिव प्रसाद व मतलूब अंसारी ने कड़ी प्रतिस्पर्धा देखने को मिली। जिसके बाद 31 मतों से शिव प्रसाद विजयी रहे। इसी तरह प्रतापपुर पंचायत से पहली बार महनाज परवीन मुखिया बनी व महबूबन खातून सरपंच चुनी गईं। प्रतापपुर क्षेत्र-2 से बीनु देवी व क्षेत्र-3 से खुशबुन निशा बीडीसी पद पर विजयी रहीं। हबीबनगर पंचायत से एक बार फिर हरेराम यादव मुखिया पद पर सुशोभित हुए। वहीं सरपंच से कैलाश चौधरी व क्षेत्र संख्या-5 से बीडीसी विजंती देवी विजयी घोषित हुई। मचकना पंचायत से एक बार फिर समित कुमार मुखिया बने वहीं देवेंद्र तिवारी सरपंच चुने गए व क्षेत्र-4 से बीडीसी रकीबा नाज बनी। मड़कन पंचायत से रितु कुमारी पहली बार मुखिया बनीं। वहीं नीलू कुमारी सरपंच पद पर विजयी रहीं। मड़कन क्षेत्र-6 से मो. असलम अंसारी बीडीसी चुने गए। छाता पंचायत से एक बार फिर मतदाताओं ने नीतीश कुमार को मुखिया चुना। वहीं गजनफर अली सरपंच घोषित हुए। छाता क्षेत्र-11 से जुबैर अहमद व क्षेत्र-12 से अरसद अली बीडीसी बने। हथौड़ा से भी विजय चौधरी दोबारा मुखिया बने रहे एवं लगातार पांचवीं बार अरमानुल्लाह सिद्दीकी सरपंच पद पर बने रहे। हथौड़ा क्षेत्र-13 से प्रेम प्रसाद बीडीसी चुने गए। छपिया बुजुर्ग से मुखिया पद पर नए चेहरे के रूप में आरती कुमारी विजयी रहींद्ध वहीं सरपंच माधुरी देवी बनी। छपिया बुजुर्ग क्षेत्र-7 से बिंदु देवी व क्षेत्र-8 से शांति देवी ने बीडीसी पद पर कब्जा जमाया। बड़रम पंचायत से पहली दफा सविता देवी को वोटरों ने मुखिया चुना। वहीं मालती देवी ने सरपंच पद पर कब्जा जमाया। बड़रम क्षेत्र-15 से चांदनी नदीम व क्षेत्र-16 से राम सोहराव बीडीसी चुने गए। खरसंडा पंचायत से मुखिया पद पर नए चेहरे के रूप में शफी अहमद विजयी रहे। सरपंच पद के लिए गुलाम साबिर जीते। खरसंडा क्षेत्र-14 से आसिया खातून बीडीसी बनी। बघौनी पंचायत से पहली बार मुखिया पद के लिए चुनाव लड़ रही ज्योति देवी रिकॉर्ड 890 मतों से विजयी रहीं। बघौनी क्षेत्र-18 से सदन निशा व क्षेत्र-19 से मुजफ्फर इमाम बीडीसी चुने गए। वहीं पूनम देवी सरपंच पद पर विजयी रहीं। रसूलपुर पंचायत से नीलम देवी पहली बार मुखिया पद पर विजयील रहीं। वहीं रेहाना खातून ने बबीता देवी को 12 वोटों से मात देकर सरपंच बनीं। रसूलपुर क्षेत्र-10 से गिरेंद्र साह बीडीसी चुने गए। खानपुर खैरांटी से सैनुल्लाह उर्फ टुन्ना अंसारी ने मुखिया पद के लिए लगातार दूसरी बार जीत दर्ज कराई। वहीं प्रेम सागर यादव सरपंच पद पर विजयी रहे। पंचायत के क्षेत्र-17 से ममता देवी पुनः बीडीसी चुनी गई। पूर्वी हरिहांस से बिंदु देवी पहली बार मुखिया बनी। वहीं सीता कुमारी सरपंच पद पर विजई रहीं। पूर्वी हरिहांस क्षेत्र-20 से जुबैदा खातून बीडीसी पद पर सुशोभित हुईं। पश्चिमी हरिहांस से भी नए चेहरे के तौर पर मुखिया पद के लिए राजीव कुमार राम ने पूर्व मुखिया को हराया और जीत हासिल कर मुखिया बने। वहीं शिवशंकर मांझी सरपंच चुने गए। क्षेत्र-21 से सत्येंद्र मांझी बीडीसी पद पर विजयी रहे। जिला परिषद क्षेत्र संख्या 11 से अमृता देवी विजई रहीं। वहीं जिला परिषद क्षेत्र संख्या 12 से अनीता देवी ने फतह हासिल की। जीतने वाले प्रत्याशियों के घर समर्थकों व बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ था।

-----------------------------------------

नाजिर रसीद काटने का कार्य शुरू

सिसवन। 24 नवंबर को होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में संभावित प्रत्याशी के लिए लगने वाले शुल्क का नाजिर रसीद काटने का काम सोमवार से शुरू हो गया। 21 अक्टूबर से प्रखंड के तेरह पंचायतों के लिए मुखिया, सरपंच, वार्ड सदस्य व पंच पद के निर्वाचन के लिए नामांकन का कार्य होगा। बीडीओ सूरज कुमार सिंह ने बताया कि प्रखंड में 13 मुखिया, 13 सरपंच, 21 बीड़ीसी 199 वार्ड सदस्य व 199 पंच पद के लिए चुनाव कराए जाएंगे। इन पदों के लिए सरकार द्वारा निर्धारित शुल्क नाजिर रसीद के रूप में काटा जा रहा है। इसके लिए फिलहाल सोमवार से प्रमुख कार्यालय में दो काउंटर पर रसीद काटने का कार्य शुरू हुआ, जो नामांकन के दिन तक चलेगा।

-------------

कहीं जश्न तो कहीं रही उदासी

हसनपुरा। प्रखंड के 12 पंचायतों में होने वाले पंचायत चुनाव का परिणाम रविवार की देर शाम तक मिलने के बाद पूरे क्षेत्र में कहीं जश्न तो कहीं उदासी का माहौल देखने को मिला। जैसे-जैसे क्षेत्र के पंचायतों का परिणाम आने लगे वैसे-वैसे विभिन्न पदों के जिसमें मुखिया, बीडीसी, सरपंच, पंच, वार्ड, जिला परिषद के प्रत्याशियों व समर्थकों में जश्न का माहौल देखा गया। इस चुनाव परिणाम में निवर्तमान मुखिया दो ही सीट निकाल सके। एक शेखपुरा पंचायत के शाहीना परवीन व मन्द्रापाली पंचायत से अनिल कुमार राम उर्फ सोहन राम शामिल हैं। जबकि अन्य दस पंचायतों में सभी नए प्रत्याशी का चेहरा जीता है। पहली बार उसरी खुर्द नए पंचायत से शमीमा खातून मुखिया से जीती जबकि बीडीसी से रूबी खातून को जीत मिली है। वहीं अन्य पंचायतों में सहुली, तेलकथू, फलपुरा, लहेजी, पियाउर, हरपुरकोटवा, रजनपुरा, पकड़ी, गायघाट पंचायत में नए चेहरे आये हैं।

----------------

…पंचायत चुनाव की तैयारी में जुटा प्रशासन

सिसवन। प्रखंड के आंबेडकर सभागार में सोमवार को प्रखंड में पंचायत चुनाव को लेकर गठित विभिन्न कोषांगों के पदाधिकारियों व उनके कर्मियों की बैठक आयोजित की गई। इसमें चुनाव की रणनीति पर चर्चा की गई। चुनाव के विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा की गई। अध्यक्षता करते हुए बीडीओ सूरज कुमार सिंह ने सभी कोषांग के पदाधिकारियों को उनके दायित्व व कर्तव्यों की जानकारी देते हुए कहा कि चुनाव को स्वच्छ और निष्पक्ष बनाने को लेकर वे लोग कार्य करें। किसी व्यक्ति या संस्था के दबाव में नहीं आये। बीएओ शिवशंकर प्रसाद ने नामांकन में बरती जाने वाली सावधानियों की जानकारी देते हुए कहा कि हेल्पलाइन पर रहने वाले व्यक्ति नामांकन के लिए आने वाले अभ्यर्थियों के सभी प्रपत्रों को जांच लें। सभी प्रपत्र सही रूप से भरे जाने चाहिए। प्रपत्र 6 पर अभ्यर्थी का हस्ताक्षर, तिथि जरूरी है। इसके अलावा ऑनलाइन करने वाले अभ्यर्थियों से लिए जाने वाले कागजात का सही मिलान करें। ताकि किसी अभ्यर्थी का नामांकन रद्द न करना पड़े।

संबंधित खबरें