DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › सीवान › नाजिर रसीद कटवाने के लिए काउंटर पर उमड़ रही प्रत्यशियों की भीड़
सीवान

नाजिर रसीद कटवाने के लिए काउंटर पर उमड़ रही प्रत्यशियों की भीड़

हिन्दुस्तान टीम,सीवानPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 07:10 PM
नाजिर रसीद कटवाने के लिए काउंटर पर उमड़ रही प्रत्यशियों की भीड़

पेज चार के लिए

भीड़ उमड़ी

सात काउंटर के बदले तीन काउंटर पर कटा नाजिर रसीद

इन काउंटरों पर नहीं हुआ कोरोना गाइडलाइंस का पालन

भगवानपुर हाट। एक संवाददाता

प्रखंड में नौवें चरण में 29 नवंबर को होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर सोमवार से नाजिर रसीद काटने का काम शुरू हुआ। नाजिर रसीद कटवाने के लिए पहले दिन काउंटर पर लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। रसीद कटवाने के लिए प्रखंड क्षेत्र अलग-अलग पंचायतों से अधिक संख्या में लोग काउंटर पर पहुंचे हुए थे। नाजिर रसीद काटने के लिए बीडीओ डॉ. कुंदन ने पहले से सात काउंटर की व्यवस्था कर रखी थी। लेकिन निर्धारित किए सात काउंटरों की जगह मात्र तीन काउंटरों पर हीं नाजिर रसीद काटा गया। इससे काउंटर पर भीड़ होने के कारण अफरातफरी मची रही। किसी काउंटर पर कोरोना गाइडलाइंस का पालन होता नहीं दिखा। प्रखंड कर्मियों ने बताया कि नाजिर रसीद काटने के लिए प्रतिनियुक्त कर्मियों की ड्यूटी सीवान जिला मुख्यालय में लगा दिए जाने के कारण पहले से निर्धारित चार काउंटर नहीं खोला जा सका। इससे पहले से निर्धारित सात काउंटरों के स्थान पर मात्र तीन काउंटर पर ही रसीद काटे गए। एक काउंटर पर मुखिया, वार्ड व पंच सदस्यों के लिए, दूसरे काउंटर पर सरपंच के लिए और तीसरे काउंटर पर बीडीसी प्रत्याशियों के लिए नाजिर रसीद काटे गए। नाजिर कक्ष में बने काउंटर पर प्रखंड नाजिर जाफर आलम ने मुखिया, वार्ड व पंच सदस्यों के लिए, प्रखंड प्रमुख कक्ष में अंचल नाजिर बालदेव प्रसाद ने सरपंच पद के लिए व मनरेगा लेखपाल वीरेन्द्र प्रसाद ने पंचायत समिति पद के लिए नाजिर रसीद काटे। काउंटर कम होने से नाजिर रसीद कटवाने आए भावी प्रत्याशियों को परेशानियां झेलनी पड़ी। सीओ रणधीर कुमार ने बताया कि कल से शेष काउंटर खोले जाएंगे।

---------------------

सभी प्रत्याशी चुनाव खर्च का ब्योरा शीघ्र जमा करें

हसनपुरा। त्रिस्तरीय पंचायत में सभी प्रत्याशियों ने विभिन्न पदों के लिये चुनाव लड़े हैं। वे शीघ्र चुनाव खर्च का ब्योरा प्रखंड कार्यालय में जमा करेंगे। अन्यथा अगला चुनाव नहीं लड़ सकेंगे। इसकी जानकारी बीडीओ राजेश्वर राम ने दी है। बता दें कि मुखिया पद के चुनाव में अभ्यर्थियों को 40 हजार, सरपंच को 30 हजार, बीडीसी को 20 हजार, वार्ड व पंच को तीन-तीन हजार रुपया खर्च करना था।

संबंधित खबरें