Change the mind - मन को बदलना ही चरित्र निर्माण DA Image
18 नबम्बर, 2019|3:13|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मन को बदलना ही चरित्र निर्माण

महाराजगंज मुख्यालय के यूएएससीडी डीएवी पब्लिक स्कूल में आर्य प्रादेशिक प्रतिनिधि उपसभा एवं आर्य युवा समाज बिहार के मार्गदर्शन में आयोजित चार दिवसीय चरित्र निर्माण शिविर के दूसरे दिन बुधवार को बीएमपी के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय पहुंचे। उन्होंने बच्चों को देशप्रेम से लेकर सदविचार व सत्मार्ग का पाठ पढ़ाया। कहा कि मन को बदलना ही चरित्र निर्माण है। हमारा मन वह शैतान है, जो हमे कुमार्ग पर ले जा सकता है। उस पर बुद्धि के बल से विजय पा सकते हैं। उन्होंने कहा कि व्यक्ति का व्यक्तित्व चरित्र से बनता है। चरित्र से हममें देश प्रेम की भावना जगती है। बाहर से कुरूप दिखने वाला व्यक्ति जरूरी नहीं कि वह चरित्रवान न हो। उसी तरह सुंदर दिखने वाला इंसान जरूरी नहीं कि वो चरित्रवान हो। उन्होंने कहा कि डीएवी एकमात्र ऐसी संस्था है जहां अंग्रेजी की पढ़ाई के साथ चरित्र भी बनता है। इस संस्था के गुरुजनों ने मुझे धर्माचार्य की उपाधि दी है। उन्होंने कहा कि ब्याव फ्रेंड व गर्ल्स फ्रेंड की संस्कृति हमारी नहीं होनी चाहिए। स्कूल में पढ़ने वाले हर लड़के की बहन है लड़की व हर लड़की का भाई है स्कूल का लड़का। हमारी सोच व समझ ऐसी होनी चाहिए। दुनिया मे भारत ही ऐसा देश है जहां की मां बहने अपने भाई व बेटे को तिलक लगाकर जंग के मैदान में भेजती हैं। जबतक हम चरित्रवान बने रहेंगे किसी की औकात नहीं की हमारी शरहदों को लांघ दे। डीएवी सीवान की कृतिका नाहर ने अपने गाये भजन कृष्ण पिया तुम क्यों नहीं राधा के बरसाने से खूब तालियां बटोरी। मौके पर ज्वलंत शास्त्री, कुलदीप विद्यार्थी, डॉ. यू एस पांडेय, डीएवी के विश्वकर्मा से नवाजे गये ई. सुगेन्द्र कुमार सिंह, नीलम सिंह थीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Change the mind