DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › सीवान › पिछले चौबीस घंटे में 10 मरीजों की हुई मौत
सीवान

पिछले चौबीस घंटे में 10 मरीजों की हुई मौत

हिन्दुस्तान टीम,सीवानPublished By: Newswrap
Fri, 07 May 2021 07:40 PM
पिछले चौबीस घंटे में 10 मरीजों की हुई मौत

पेज तीन की लीड

अभिशाप

कोरोना काल के संक्रमण के बाद उपजे हालत को देखते हुए सभी मरीज डेडिकेटेड सेंटर में सेवाएं लेने की चाहत रख रहे हैं

मरने वालों में कोविड व नॉन कोविड मरीज शामिल

इलाज को लेकर मरीजों का आना-जाना लगा रहा

06 मरीज डायट डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर में ठीक

03 बजे शाम से लेकर शुक्रवार तीन बजे तक की रिपोर्ट

फोटो संख्या-

सीवान। निज प्रतिनिधि

शहर के डायट स्थित डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर कई मरीजों के लिए वरदान साबित हो रहा है तो कई के लिए अभिशाप। शुक्रवार को भी इस डेडिकेटेड हेल्थ सेंटर पर इलाज को लेकर मरीजों का आना-जाना लगा रहा। विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यहां इलाज को लेकर आए पिछले चौबीस घंटे में कुल दस लोगों ने अपना दम तोड़ दिया। गुरुवार तीन बजे शाम से शुक्रवार की शाम तक इन मरीजों ने दम तोड़ा है। इनमें नॉन कोविड व कोविड के भी मरीज शामिल हैं। हालांकि इस सेंटर से जुड़ी एक अच्छी खबर यह रही कि यहां इलाजरत करीब 12 मरीजों के ठीक होने के बाद डॉक्टरों ने उन्हें घर जाने की सलाह दी गई है। उनमें से छह मरीज तो अपने घर वापस चले गए जबकि छह सेंटर के बेड पर ही अब भी पड़े हुए हैं। जबकि उनका ऑक्सीजन लेवल भी 95 के करीब है। दरअसल कोरोना काल के संक्रमण के बाद उपजे हालत को देखते हुए सभी मरीज इस डेडिकेटेड सेंटर में सेवाएं लेने की चाहत रख रहे हैं। मिली जानकारी के अनुसार सौ बेड वाले इस सेंटर में शुक्रवार को शाम करीब पांच बजे करीब अस्सी मरीज भर्ती थे। सभी मरीजों को सांस लेने में परेशानी आने के बाद उन्हें यहां भर्ती कराया गया है। जबकि करीब बीस मरीजों के लिए बेड खाली है।

नॉन कोविड व कोविड के मरीजों के लिए बना है सेंटर

डायट स्थित डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर कोविड व नॉन कोविड दोनों ही प्रकार के मरीजों के लिए बनाया गया है। यहां कोविड-19 जैसे लक्षण पाए जाने वाले मरीजों को भर्ती किया जाता है। हालांकि इन दिनों अन्य बीमारी के कम जबकि सांस लेने में परेशानी होने वाले ज्यादातर मरीज ही इलाज को लेकर अस्पतालों का चक्कर लगा रहे हैं।

---------------------

भगवानपुर की शिक्षिका का कोरोना से रिम्स में मौत

भगवानपुर हाट। प्रखंड के उत्क्रमित मिडिल स्कूल मछगरा की हेडमास्टर दमयंती देवी का कोरोना से रांची के रिम्स में इलाज के दौरान मौत हो गई है। इसकी खबर मिलते हीं शिक्षकों तथा ग्रामीणों में शोक व्याप्त हो गया है। वे पिपरा गांव के ब्रजकिशोर सिंह की पत्नी थीं। तबीयत खराब होने पर परिजन उन्हें इलाज के लिए पटना ले गए। लेकिन, तबीयत में सुधार नहीं होते देख उन्हें रांची के रिम्स में भर्ती कराया गया। उनके पारिवारिक सदस्य अजित सिंह ने बताया कि वे कोरोना संक्रमित हो गईं थीं। इलाज के दौरान उनका निधन हो गया है।

जिले में कोरोना के 173 नए मरीज मिले

जांच में उजागर

एंटीजन किट से कुल 1302 लोगों की जांच की गई

ट्रूनेट मशीन से कुल 164 लोगों की जांच की गई थी

सीवान। निज प्रतिनिधि

जिले में कोरोना मरीजों की संख्या में कमी नहीं हो रही है। जबकि इसके अपेक्षा लक्ष्य के अनुरूप जांच नहीं हो रही है। शुक्रवार को भी अन्य दिनों के मुकाबले में कम जांच की गयी। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार को जिले में कुल 173 नए मरीज मिले हैं। एंटीजन किट से कुल 1302 लोगों की जांच की गई थी। जिनमें से 133 की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली। वहीं जिले में सबसे अधिक मरीजों की संख्या सदर अस्पताल स्थित जांच केंद्र पर रहा। मिली जानकारी के अनुसार यहां कुल 26 मरीज मिले हैं। जबकि दूसरे स्थान पर पचरुखी प्रखंड रहा जहां कुल 16 मरीज मिले। दूसरी तरफ ट्रूनेट मशीन से कुल 164 लोगों की जांच की गई, इनमें से 40 की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव मिली। वहीं 310 लोगों की आरएमआरआई जांच सैम्पल ली गयी।

भगवानपुर में तीन कोरोना पॉजिटिव मिले

भगवानपुर हाट। गवानपुर सीएचसी में शुक्रवार को एंटीजेन किट से पचास लोगों की जांच हुई, जिसमें तीन लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। ट्रूनेट से जांच के लिए 44 सैम्पल भेजे गए हैं। वहीं सीएचसी सहित विभिन्न टीकाकरण केन्द्रों में 60 लोगों को कोरोना का टीका लगाया गया।

एंटीजन किट से मिले 15 कोरोना पॉजीटिव मरीज

पचरुखी। सीएचसी में शुक्रवार को एंटीजन किट से जांच में 15 मरीजों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली है। बता दें कि सीएचसी में 64 संदिग्ध मरीजों की कोरोना जांच एंटीजन किट से की गयी। जिसमें 15 मरीजों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली। जबकि 49 संदिग्धों की रिपोर्ट निगेटिव मिली है। इधर जिन 15 मरीजों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली है, उनके सम्पर्क में आने वाले सभी लोगों को चिन्हित कर स्वास्थ विभाग द्वारा कोरोना जांच करने की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है। वहीं गुरुवार की देर शाम शहर के डायट में बने कोविड सेंटर में कोरोना संक्रमण के कारण थाने के ही जसौली गांव निवासी एक महिला की मौत हो गयी। इधर कोरोना संक्रमण से महिला की मौत से ग्रामीणों में एकबार फिर भय का माहौल कायम हो गया है।

16 कोरोना पॉजिटिव मिले

महाराजगंज। मुख्यालय के पीएचसी व अनुमंडलीय अस्पताल में कोरोना जांच के दौरान 16 पॉजिटिव मरीज मिले हैं। स्वास्थ्य प्रबंधक महताब अनवर ने बताया कि पीएचसी में 68 व अनुमंडलीय अस्पताल में 45 लोगों के कोरोना सैंपल की जांच की गई। जिसमें पीएचसी के एंटीजन जांच में 12 व अनुमंडलीय अस्पताल में 4 मरीज पॉजिटिव थे।

दरौली में दो लोग मिले कोरोना पॉजिटिव

दरौली। प्रखंड में कोरोना पॉजिटिव संक्रमितों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। शुक्रवार को दरौली में दो कोरोना पॉजिटिव मिले। हेल्थ मैनेजर शाहिद अंसारी ने बताया कि 20 लोगों का आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए सैम्पल लिया गया। वहीं 40 लोगों का एन्टीजन टेस्ट किया गया। जिसमें दो लीगों का रिपोर्ट पॉजिटिव आयी।

हसनपुरा में पाए गए तीन लोग पॉजिटिव

हसनपुरा। प्रखंड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में शुक्रवार को चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. अभय कुमार के नेतृत्व में कोरोना जांच की गयी। जिसमें 67 लोगों से रैपिड एंटीजन जांच सैंपल लिया गया। इस दौरान तीन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव पायी गयी है। इसमें चैनपुर का एक व सीवान के दो व्यक्ति शामिल हैं।

नौतन में 62 लोगों में सिर्फ एक कोरोना पॉजिटिव

नौतन। स्थानीय पीएचसी परिसर में शुक्रवार को रैपिड एंटीजन किट से 62 लोगों की कोरोना वायरस संक्रमण की जांच की गई। जिसमें एक कोरोना पॉजिटिव पाया गया। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाक्टर शाहिद ने बताया कि पॉजिटिव संक्रमित को दवा देकर होम आइसोलेशन में भेज दिया गया है। वहीं 20 लोगों का सैंपल आरटीपीसीआर के कराने के लिए भेजा गया है।

महाराजगंज में 14 दिन में पहली बार कोई मौत नहीं

महाराजगंज। मुख्यालय के अनुमंडलीय अस्पताल के डीसीएचसी वार्ड में पिछले 24 घंटे में कोरोना से एक भी मौत नहीं हुई है। 14 दिन बाद ऐसा पहला मौका है जब किसी कोरोना मरीज की मौत नहीं हुई है। अस्पताल के डॉक्टर व मेडिकल स्टाफ राहत महसूस कर रहें हैं। 23 अप्रैल से 6 मई तक प्रतिदिन किसी न किसी कोरोना मरीज की मौत हुई। लेकिन, शुक्रवार को अस्पताल परिसर में शकुन का माहौल था। डॉ. अरुण कुमार ने बताया कि गुरुवार को दोपहर में एक रोगी की मौत हुई थी। अस्पताल प्रबंधक देवेंद्र सिमघ बघेल ने बताया कि गुरुवार को 12 लोग कोरोना से जंग जीतकर घर लौट गए। जबकि 10 नए कोरोना मरीजों को इलाज के यहां भर्ती किया गया है।

जांच में एक भी पॉजिटिव नहीं मिला

हुसैनगंज। प्रखंड स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर शुक्रवार को एंटीजन किट से जांच के दौरान एक भी व्यक्ति के पॉजिटिव नहीं पाए जाने से पीएचसी चिकित्सकों ने राहत की सांस ली। हुसैनगंज पीएचसी में आए दिन एंटीजन किट से जांच कर विभिन्न क्षेत्रों के व्यक्तियों के अंदर कोरोना संक्रमण का पता लगाया जा रहा है। प्रतिदिन ही दो चार लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आना आम बात थी। किन्तु शुक्रवार को स्वास्थ्यकर्मियों के लिए राहत भरा रहा कि शुक्रवार के दिन किसी भी व्यक्ति की एंटीजन जांच से रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आई। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. मनीष कुमार ने बताया कि शुक्रवार को पीएचसी परिसर में कुल 33 लोगों की एंटीजन किट से कोरोना संक्रमण की जांच की गई जिसमें किसी की भी रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आई।

बसंतपुर में 13 कोरोना संक्रमित मिले

बसंतपुर। मुख्यालय के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में शुक्रवार को 70 लोगों की रैपिड एंटीजन किट से जांच की गई। जांच में 13 लोग कोरोना से संक्रमित मिले। संक्रमित लोगों में भगवानपुर के पांच, गोरेयाकोठी व महाराजगंज के एक-एक लोगों के अलावा प्रखंड मुख्यालय व करहीं खुर्द के दो-दो व बसांव और शामपुर के एक-एक लोग शामिल हैं। वहीं 20 लोगों के सैंपल आरटी-पीसीआर जांच के भी लिए गए। जीएनएम रूपा कुमारी ने 40 लोगों को वैक्सीन दिए।

संक्रमण रोकने के लिए बढ़ी जागरूकता

लकड़ी नबीगंज। एक तरफ जहां वैश्विक महामारी कोरोना का प्रकोप चरम पर है। वहीं इससे निपटने व संक्रमण नहीं फैलने देने के लिए लोगों में जागरूकता बढ़ी है। गांव, टोला, मोहल्लों में लोग एक दूसरे को संक्रमण से बचने का गुर बता रहे हैं। मास्क सैनिटाइजर के अलावे सामाजिक दूरी का भी लोग ख्याल रख रहे हैं। आमतौर पर वैवाहिक कार्यक्रमों में सामूहिक भोज करते हैं। परंतु वर्तमान परिवेश में ग्रामीण परंपरा को दरकिनार कर महज विवाह की रस्म अदायगी के अलावा भोज व अन्य कार्यक्रमों को टाल दिए जाने की सलाह दे रहे हैं। लोगों में महामारी से पैनिक हुए बिना सजग और सतर्क रहना मुनासिब है। लोगों में बढ़ी जागरूकता, साफ सफाई पर फोकस को देखकर यह कहना वाजिब है कि इस महामारी को हराने के लिए अब लोग पूरी तरह एकजुट हैं।

तीन दिनों के अंदर कोविड संबंधित टीका अवश्य लेने पर जोर

सीवान। जिले में कोविड 19 संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए जिला प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट मोड में है। संक्रमण से बचाव को लेकर कोविड टीका हरके को लगवाने पर जोर दिया जा रहा है। इसी संदर्भ में जिले में अब-तक कोविड वैक्सिनेशन की एक भी खुराक नहीं लेने वाले कर्मचारियों की सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। इसे लेकर स्थापना उप समाहर्ता ने सभी कार्यालय प्रधान को शुक्रवार को पत्र जारी किया है। इसमें कहा गया है कि सभी नियंत्रण पदाधिकारी व डीडीओ यह सुनिश्चित कर लें कि उनके अधीन कार्यरत सभी सरकारी कर्मचारी दो से तीन दिनों के अंदर कोविड संबंधित टीका अवश्य ले लें।

लॉकडाउन में कोरोना जांच की रफ्तार हुई कम

रघुनाथपुर। लॉकडाउन लगने के बाद तीसरे दिन रेफरल अस्पताल में कोरोना का जांच कराने वाले और टिका लेने वालों की संख्या में कमी देखी गयी। अमूमन दोपहर 1 बजे तक अस्पताल में भीड़ बनी रहती है। लेकिन, शुक्रवार को साढ़े 11 बजे की कोरोना की जांच कराने की रसीद कटवाने वाले काउंटर और टीका लगाने वाले वार्ड खाली ही थे। जो आ रहे थे, उनका कोरोना जांच करके रिपोर्ट निगेटिव आने पर टिका दिया जा रहा था। शुक्रवार को अस्पताल में मात्र 77 लोगों ने अपना कोरोना जांच करवाया। इनमें 8 लोग पॉजिटिव पाए गए। सभी को दवा देकर होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दी गयी।

संबंधित खबरें