ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार सीतामढ़ीदो शिक्षकों के सहारे चल रही नवमी से बारहवीं की पढ़ाई

दो शिक्षकों के सहारे चल रही नवमी से बारहवीं की पढ़ाई

सीतामढ़ी। नगर पंचायत बेलसंड व प्रखंड का एक मात्र बालिका प्रोजेक्ट उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय...

दो शिक्षकों के सहारे चल रही नवमी से बारहवीं की पढ़ाई
default image
हिन्दुस्तान टीम,सीतामढ़ीMon, 17 Jun 2024 12:30 AM
ऐप पर पढ़ें

सीतामढ़ी। नगर पंचायत बेलसंड व प्रखंड का एक मात्र बालिका प्रोजेक्ट उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय संसाधन विहीन है। इस विद्यालय की स्थिति दयनीय है। विद्यालय में शिक्षकों का घोर अभाव है। जिससे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की कल्पना नहीं की जा सकती। पुराना भवन जर्जर व धारासायी होने के कगार पर है। स्थिति यह है कि भवन के अभाव में जर्जर भवन में पुस्तकालय व कार्यालय चल रहा है। दूसरे भवन में तीन कमरा है। जिसमें दो कमरों में कक्षा नौवी से 12वीं तक की पढ़ाई होती है। एक कमरे में प्रयोगशाला एवं कंप्यूटर रखा हुआ है।
दो शिक्षक के सहारे होती है पढ़ाई :

प्रोजेक्ट बालिका उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय बेलसंड में प्रधानाध्यापक सहित मात्र दो शिक्षक पदस्थापित हैं। एक प्रधानाध्यापक व एक संगीत के शिक्षक हैं। विद्यालय के प्रधानाध्यापक 11 वीं व 12 वीं में रसायन विज्ञान की क्लास लेते हैं। वहीं, नवमी से दशमी कक्षा के लिए एक संगीत शिक्षक है। इससे विद्यार्थियों के पठन-पाठन में भारी परेशानी हो रही है।

एक ही कमरे में चलती है कई कक्षाएं :

विद्यालय में नवमीं से लेकर 12वीं तक की पढ़ाई होती है। विद्याालय में नामांकित छात्राओं की संख्या करीब एक हजार है। कमरों व शिक्षकों के अभाव के कारण कई वर्ग एक साथ चलाने पर रहे है। जिस कारण सभी विषयों की पढ़ाई कराने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। शैक्षणिक रूप से समृद्ध करने वाले तमाम दावे खोखले साबित हो रहे हैं।

शिक्षा विभाग व जनप्रतिनिधि नहीं ले रहे संज्ञान :

प्रधानाध्यापक सुधीर चन्द्र बताते हैं कि विगत कई वर्षों से बार-बार शिक्षा विभाग को इन समस्याओं से अवगत कराया गया है। लेकिन समस्या जस की तस बनी हुई है। स्थानीय जनप्रतिनिधि भी इस ओर ध्यान नहीं देते है। जिस कारण छात्राओं की पढ़ाई बाधित होती है। बताया कि इस संदर्भ में स्थानीय विधायक को भी समस्या से अवगत कराया गया है। फिलहाल निदान अब तक नहीं निकल पाया है। शिक्षक व कमरा के अभाव में परेशानियों के बीच किसी प्रकार शिक्षण कार्य किया जा रहा है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।