Tuesday, January 18, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार सीतामढ़ीबुआई से पूर्व उन्नत प्रभेद के बीज का करें चयन

बुआई से पूर्व उन्नत प्रभेद के बीज का करें चयन

हिन्दुस्तान टीम,सीतामढ़ीNewswrap
Tue, 30 Nov 2021 06:01 PM
बुआई से पूर्व उन्नत प्रभेद के बीज का करें चयन

पुपरी | एक प्रतिनिधि

धान की कटनी के बाद अब किसान गेंहू की खेती करने में जुट गए हैं। खेत की जोताई शुरू हो चुका है। ऐसे में कृषि विज्ञान केन्द्र सीतामढ़ी के द्वारा किसानों को गेहूं की बुआई शुरू कर देने की सलाह दी गई है। धान की फसल कटते हीं उन्नत किस्म के बीज का चयन कर रबी की फसल लगाने पर जोर दिया गया है। खेत व फसल की लगातार देखभाल को भी जरूरी बताया है। कृषि विज्ञान केंद्र के फसल वैज्ञानिक सच्चिदानन्द प्रसाद ने बताया कि किसान गेहूं फसल की बुआई शुरू कर सकते हैं। गेहूं की बुआई विभिन्न प्रकार की मिट्टी में की जा सकती है। परन्तु दोमट मृदा इसकी खेती के लिए सर्वोत्तम माना जाता है। इसमें काफी अधिक उपज प्राप्त होती है। रेतीली मिट्टी में पानी रोकने की क्षमता व कार्बनिक जीवाश्म की मात्रा कम होती है। इसलिए यह खेती के लिए अच्छी नहीं होती हैं। अच्छी उपज के लिए भूमि अम्लीय या क्षारीय नहीं होना चाहिए। वैज्ञानिक ने बताया कि गेहूं बुआई करने के लिए खेत की जुताई कम से कम तीन बार करनी चाहिए। पहली जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से करें। बाद में डिस्क हैरो या देसी हल से जुताई के बाद पाटा ( हेंगाई) कर दें। इससे मिट्टी मुलायम एवं भुरभुरी हो जाती है। इस भूमि में नमी बीज अंकुरण के लिए लाभदायक होता है। गेहूं की बुआई के लिए तापमान 21से 25 डिग्री सेंटीग्रेड होना चाहिए।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें