DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शहर में बिना फायर ब्रिगेड की एनओसी से चल रहे कोचिंग संस्थान

शहर में फायर ब्रिगेड की एनओसी के बगैर ही कोचिंग संस्थान संचालित किए जा रहे है। सुरक्षा मानकों का मजाक उड़ाकर ये संस्थान धड़ल्ले से चल रहे हैं। जिला प्रशासन की ओर से अबतक इन कोचिंग संस्थानों को रजिस्ट्रेशन भी नहीं मिला है। जबकि सरकार ने 2017 में ही कोचिंग संस्थान को रजिस्ट्रेशन लेना अनिवार्य कर दिया था। वहीं जिला अग्निशमन कार्यालय द्वारा कई बार नोटिस भेजे जाने के बाद भी कोचिंग संस्थान भी एनओसी नहीं लिया। कोचिंग संस्थान द्वारा बरती जा रही इस लापरवाही से पढ़ने आने वाले बच्चों की सुरक्षा पर प्रश्नचिह्न लग रहा है। जबकि शुक्रवार की शाम गुजरात के सूरत शहर में एक कोचिंग संस्थान में आग लगने से 21 की मौत हो गई। वहीं कई गंभीर रूप से घायल हो गए।

शहर के रिहायशी इलाकों मे खुले कोचिंग संस्थान बच्चों के जीवन से खिलवाड़ कर रहे हैं। अग्रिशमन विभाग के रिकॉर्ड पर गौर करें तो शहर के पांच सौ से अधिक छोटे-बड़े कोचिंग संस्थान है। इनमें एक के पास भी सुरक्षा के इंतजाम नहीं है। एनओसी लेने की प्रक्रिया नि:शुल्क रहती है। फिर भी आग से सुरक्षा को लेकर अधिकांश कोचिंग संस्थान लापरवाही बरत रहे है। कोचिंग संस्थानों में आग बुझाने के पर्याप्त मात्रा में साधन न होने के कारण अग्निशमन विभाग द्वारा सभी को सुरक्षा का मानक पूरा करने के लिए नोटिस कई बार भेजा जा चुका है। इसके बावजूद लोग मनमानी पर उतारू हैं। लेकिन अभी तक मनमानी करने वाले संचालकों पर जिला प्रशासन का डंडा नहीं चला।

संकीर्ण गलियो में चल रहा कोचिंग, निकास द्वार का अभाव

शहर के संकीर्ण गलियों में कोचिंग संस्थान खुले है। जहां पर गाडि़यों का जाना मुश्किल है। वहां पर कोचिंग संस्थान पहले व दूसरे तल्ले पर भी चलती है। यहां पर आने-जाने के लिए मात्र एक ही द्वार व सीढ़ी है। जिससे की विषम परिस्थिति में उपर से नीचे आने में काफी समस्या हो सकती है। अगर सीढ़ी की तरफ से आग लग जाए तो निकलना मुश्किल हो जाएगा।

रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया जल्द होगी शुरू

शहर के 191 कोचिंग संस्थान के द्वारा रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन दिया है। लेकिन उसका स्थल निरीक्षण नहीं होने की वजह से रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया लटकी है। उधर, इस बाबत डीईओ रामचंद्र मंडल ने बताया कि कोचिंग रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है। कोचिंग के रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन भी आए है। जल्द ही कमेटी की बैठक कराकर रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

जिले में कोई शिक्षण व कोचिंग संस्थान ने एनओसी नहीं लिया है। एनओसी के लिए नोटिस भेजा गया है। सुरक्षा के दृष्टिकोण से एनओसी लेना अनिवार्य है। जल्द ही इसकी जांच की जाएगी। - शशिकांत शर्मा, जिला अग्निशमन अधिकारी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Coaching institute running from NOC of Fire Brigade in the city