ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार सीतामढ़ीखरीफ की खेती के लिए पंचायतों में लगेगा चौपाल

खरीफ की खेती के लिए पंचायतों में लगेगा चौपाल

शिवहर। खरीफ की खेती के लिए कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन अभिकरण (आत्मा) द्वारा जिले...

खरीफ की खेती के लिए पंचायतों में लगेगा चौपाल
खरीफ की खेती के लिए पंचायतों में लगेगा चौपाल
हिन्दुस्तान टीम,सीतामढ़ीSat, 22 Jun 2024 12:45 AM
ऐप पर पढ़ें

शिवहर। खरीफ की खेती के लिए कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन अभिकरण (आत्मा) द्वारा जिले के सभी पंचायतों में किसान चौपाल का आयोजन किया जाएगा। पंचायत में किसान चौपाल 15 जुलाई तक आयोजित किया जाएगा। इसको लेकर आत्मा की ओर से लोगों को जागरूक करने के लिए किसान चौपाल जागरूकता रथ शुक्रवार को रवाना किया गया। कलेक्ट्रेट से डीडीसी अतुल कुमार वर्मा ने जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। जागरूकता रथ पंचायत में घूम-घूम कर लोगों को किसान चौपाल के संबंध में जागरूक करेगा। मालूम हो कि किसान चौपाल के आयोजन को लेकर आत्मा द्वारा प्रखंडवार व पंचायत वार शेड्यूल तैयार किया गया है। प्रतिदिन प्रत्येक दिन पंचायतों में रोस्टर के अनुसार चौपाल कार्यक्रम का आयोजन होगा। प्रत्येक चौपाल कार्यक्रम चार घंटे का होगा। कृषि विभाग के के निर्देश के आलोक में चतुर्थ कृषि रोड मैप के तहत जिले में किसान चौपाल कार्यक्रम के आयोजन किया जा रहा है। किसान चौपाल योजना के ये हैं उद्देश्य कृषि विभाग द्वारा संचालित कार्यक्रमों को किसानों तक पहुंचाना, कृषि क्षेत्र में किसानों की समस्याओं की जानकारी प्राप्त कर उनका समाधान करना और किसानों से सुझाव प्राप्त करना किसान चौपाल का उद्देश्य है। जल जीवन हरियाली योजना का प्रचार प्रसार, फसल अवशेष प्रबंधन, मोटे अनाज की खेती को बढ़ावा देना, कृषि से संबद्ध नवीनतम तकनीक की जानकारी किसानों को चौपाल में दी जानी है।

चौपाल में किसानों के लिए अल्पाहार की व्यवस्था भी किया जाना है। किसान चौपाल में किसान व पदाधिकारी सहित अधिकतम 115 लोगों के लिए प्रबंध किए जाएंगे। अल्पाहार के अलावा प्रचार प्रसार के लिए फ्लैक्स, लाउडस्पीकर, बैठने के लिए कुर्सी आदि की व्यवस्था रहेगी। चौपाल में विभिन्न फसलों का उत्पादन बढ़ाने के लिए कलस्टर में खेती को बढ़ावा देने,उर्वरकों के प्रयोग, बुआई, बीजोपचार, सिंचाई के लिए जल प्रबंधन, फसल अवशेष प्रबंधन , मिट्टी जांच के लाभ, जैविक खेती, सूक्ष्म सिंचाई पद्धति, मोटे व उद्यानिक अनाज की महता और समेकित पोषक तत्व प्रबंधन के बारे में किसानों को जानकारी दी जाएगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।