DA Image
1 अगस्त, 2020|8:29|IST

अगली स्टोरी

कुर्बानी के रूप में मनाया गया बकरीद पर्व

default image

डेहरी। एक प्रतिनिधि

कुर्बानी के पर्व के रूप में मनाया जाने वाला बकरीद पर्व शनिवार को सोशल डिस्टेंस के साथ मनाया गया। इस अवसर पर जगह-जगह दंडाधिकारी के साथ पुलिस बल की तैनाती भी की गई। ईद-उल-अज़हा के पर्व के बारे में स्टेशन रोड मस्जिद के सरपरस्त मो. वारिश अली ने बताया कि अल्लाह की मर्जी को कुबूल करने और उनके हुक्म के सामने जान व माल को लुटा देने के नाम पर बकरीद मनाया जाता है। यह अल्लाह के पैगंबर हजरत अलैहिस्सलाम की सुन्नत है। और अल्लाह में पैग़ंबरे इस्लाम हजरत मोहम्मद मुस्तफा अलैहिस्सलाम को कुर्बानी का हुक्म दिया। इस्लामिक कैलेंडर के अंतिम माह जिल्हज्जा की 10वीं को कुर्बानी के रूप में बकरीद मनाया जाता है।

बकरीद पर्व पर कोरोना का असर साफ दिखाई दे रहा था। क्योंकि पहली बार बकरीद में मस्जिदों के बजाय घरों में नमाज अदा की गई। पहले की तरह उत्साह भी नहीं दिख रहा था। सुबह घरों में नमाज अदा करने के उपरांत हिंदू-मुस्लिम सभी धर्म के लोगों ने एक दूसरे से गले मिलकर बकरीद की बधाईयां दी। नमाज के वक्त जहां सभी मस्जिदों के समीप दंडाधिकारी के साथ पुलिस बल की तैनाती थी। वहीं शहर में भी पुलिस गश्ती हर जगह देखी गई। नमाज उपरांत मुस्लिम समुदाय के लोग अपने-अपने घरों में बकरे की कुर्बानी दी। अधिकांश घरों में बकरे की कुर्बानी के साथ-साथ सेवइयां भी बनाई गई थी। कई मुस्लिम समुदाय के लोगों ने अपने हिंदू धर्म के मित्रों को सावन का महीना देखते हुए उन्हें अपने घर पर सेवैया खिलाया। नए-नए परिधान और इत्र की खुशबू के साथ बकरीद मनाने वाले लोग शहर से गांव तक एक दूसरे को बधाइयां देते और लेते रहे। एसडीएम व एएसपी संजय कुमार के नेतृत्व में जिला पुलिस व सीआरपी के जवानों ने शहर में लागातार पुलिस गश्त व मार्च करते रहे।

फोटो नंबर-5

कैप्शन- बकरीद की नमाज अदा करने के बाद एक दूसरे को बधाई देते लोग।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bakrid festival celebrated as sacrifice