DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंडेश्वरी-आरा रेल लाइन परियोजना अधर में लटकी

परियोजना से कैमूर, बक्सर, रोहतास व भोजपुर में लाइन बिछाने की है योजना

2009 में तत्कालीन रेलमंत्री ने किया था शिलान्यास , नहीं शुरू हो सका काम

दिनारा। निज संवाददाता

मुंडेश्वरी आरा रेल लाइन निर्माण परियोजना वर्षो बाद भी शुरू नहीं हो सकी। घोषणा के अलावा शिलान्यास हुए दस वर्ष होने को है। लेकिन,

परियोजना का सर्वेक्षण के अलावा और कोई कार्य नहीं हुआ। हाबाद के विकास के लिए जरूरी इस परियोजना का काम शुरू नहीं होने से लोग मायूस हैं। घोषणा के बाद सरकार बदलने के साथ ही यह परियोजना फाइलों में दबकर रह गई। इस रेल लाइन से सासाराम, बक्सर व आरा लोकसभा क्षेत्र का सीधा जुड़ाव हो सकेगा। परियोजना का सर्वेक्षण कार्य भी पूरा कर लिया गया है। लेकिन सर्वेक्षण के बाद आजतक इस परियोजना को पूरा करने के लिए राशि आवंटित नहीं की गई। इसीलिए कार्य शुरू नहीं हो सका है। इस रेल लाइन परियोजना से शाहाबाद के चारों जिलों कैमूर, बक्सर, रोहतास व भोजपुर में लाइन बिछायी जानी है। कुल लंबाई 137 किमी होगी। इस योजना पर 537 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान था। प्रस्तावित स्टेशन के रूप में मुंडेश्वरी धाम, मोहनियां, परसथुआ, कोचस, दिनारा, भलुनीधाम, मलियाबाग, सोनवर्षा, जगदीशुपर, आरा को चिन्हित किया गया था। शाहाबाद के चारों जिले को जोड़ने वाली यह एकमात्र रेल परियोजना है। कुछ लोगों का कहना है कि यूपीए सरकार में शुरू हुए इस योजना पर बजट में कोई प्रावधान नहीं किया गया। सरकार बदलने से आजतक इस परियोजना की अनदेखी कर दी गई।

तत्कालीन रेलमंत्री लालू प्रसाद द्वारा सात साल पहले बजट में शामिल मुंडेश्वरी आरा रेल लाईन को शामिल किया गया था। रेल बजट से परियोजना को मंजूरी मिलने के बाद रेलवे के वरीय पदाधिकारियों ने उसी समय परियोजना का शुभारंभ भी कर दिया। सर्वेक्षण कार्य के लिए राशि आवंटित होने के बाद सर्वेक्षण कार्य किया गया। लेकिन, उसके बाद यह महत्वाकांक्षी रेल परियोजना ठंडे बस्ते में चली गई। लालू प्रसाद भी रेल मंत्री नहीं रहे।

संसद में कई बार मामला गूंजा

2014 में सरकार बदलने पर संसद में कई बार शाहाबाद क्षेत्र के निर्वाचित सांसद ने इस परियोजना के लिए धन आवंटित करने की मांग की, लेकिन आश्वासन के सिवा कुछ नहीं मिला। केन्द्र सरकार में मंत्री अश्विनी कुमार चौबे व आरके सिंह भी इस परियोजना को लेकर रेल मंत्री सुरेश प्रभु से परियोजना का काम शुरू कराने की मांग की थी, लेकिन उसे अनसुनी कर दिया गया। कहते हैं लोग प्रखंड मुखिया संघ के अध्यक्ष रंजय सिह, शिक्षक भोला ठाकुर, मुरलीधर दुबे, अशोक कुमार, सुनील राय, रामू चौधरी व व्यवसायी रमेश गुप्ता ने कहा कि इस परियोजना को

क्षेत्र के लिए सभी दृष्टिकोण से साकार करना जरूरी है। इससे इलाके का विकास होगा। यह परियोजना पूरी होगी, तो शाहाबाद के विकास की गति दोगुनी हो जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: