DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के तहत पहाड़ी पर दिखेगी हरियाली

वन विभाग ने गांवों व पहाड़ी क्षेत्रों में हरियाली लाने के लिए बनायी योजना

वन महोत्सव पर आठ लाख जिले भर में पौधरोपण करने की तैयार की गई योजना

मुख्यमंत्री कृषि वानिकी के तहत गांवों में लगाए जाएंगे दो लाख 40 हजार पौधे

केन्द्र सरकार की फॉरेस्ट मिशन के तहत 50 हजार लगाए जाएंगे पौधे

सासाराम। हिन्दुस्तान संवाददाता

राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के तहत पहाड़ी भागों में हरियाली दिखेगी। वन विभाग ने कैमूर पहाड़ी से लेकर गांवों को हरा-भरा करने के लिए कार्य योजना तैयार की है। वन महोत्सव पर जिले में आठ लाख पौधरोपण किया जाएगा। जिसमें चार लाख कैमूर पहाड़ी पर शेष मैदानी भागों के गांवों में वृक्ष लगाने की योजना तैयार की गई है। कई जगहों पर पौधरोपण का कार्य शुरू कर दिया गया है। इसमें राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन,मुख्यमंत्री कृषि वानिक ी, केन्द्र सरकार की एग्रो फॉरेस्ट मिशन के तहत इसबार पौधरोपण किया जाएगा। सांसद आदर्श ग्राम सदर प्रखंड के सिकरियां पंचायत को भी चयन किया गया है। इसबार सांसद आदर्श ग्राम के गांवों की सड़कों पर पौधरोपण किया जाएगा। इससे सासद आदर्श ग्राम में हरियाली दिखेगी व पर्यावरण भी सुरक्षित रहेगा। इसे ध्यान में रखते हुए वन विभाग ने कार्य योजना बनायी है। वृक्षों के सुरक्षा के लिए बांस का गैबियन भी बनाया जाएगा। किसानों भी अपने निजी भूमि पर पौधरोपण करेंगे। इसके लिए किसानों को अनुदान मुहैया कराया जाएगा। किसानों को वृक्ष लगाने से लेकर उसे देख-रेख करना होगा। तभी उन्हें अनुदान दिया जाएगा। किसानों के लिए लक्ष्य निर्धारित किया गया है। दो लाख 40 हजार पौधे किसानों निजी भूमि में लगाएंगे। सबसे अधिक पहाड़ी क्षेत्रों में पौधरोपण किया जाएगा।

आठ लाख पौधा लगाने का है लक्ष्य

वन महोत्सव पर इसबार आठ लाख पौधरोपण करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। फलदार व छायादार वृक्ष लगाए जाएंगे। विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अलग-अलग योजना के तहत पौधरोपण किया जाएगा। इसमें बिहार सरकार के साथ-साथ केन्द्र सरकार की योजनाओं के तहत आठ लाख पौधा लगाया जाएगा। राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के तहत करीब 15 हजार पौधे लगाए जाएंगे। मुख्यमंत्री वानिकी योजना के तहत दो लाख 40 हजार पौधे लगाने की योजना है। मुख्यमंत्री वानिकी योजना के तहत किसानों को निजी भूमि पर लगाने के लिए पौधा उपलब्ध कराया जाएगा। जबकि केन्द्र सरकार की योजना एग्रो फॉरेस्ट मिशन के तहत 50 हजार पौधा लगाने की योजना है। यानी चार लाख जंगली एरिया में पौधरोपण किया जाएगा। यदि आठ लाख पौधरोपण के बाद बड़े होने तक उसे देख-रेख किया जाए तो, पूरा जिला हरा-भरा दिखेगा। क्योंकि वन विभाग द्वारा प्रत्येक साल वन महोत्सव पर वृक्षा रोपण किया जाता है। जिसमें अधिकांश पौधे खराब हो जाते हैं। सिंचाई व धूप के कारण पौधे सुख जाते हैं।

कहते हैं अधिकारी

वन प्रमंडल पदाधिकारी एस कुमारा सामी ने कहा कि वन महोत्सव पर जिले में आठ लाख पौधरोपण करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। कई जगहों पर वृक्ष लगाया जा चुका है। शेष स्थलों पर पौधरोपण कार्य चल रहा है। वृक्ष के सुरक्षा के लिए गैबियन भी लगाए जा रहे हैं।

फोटो-

कैप्शन-

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हीर