DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपीएससी : पहले प्रयास में ही प्रेरणा ने प्राप्त किया 57वां रैंक

यूपीएससी : पहले प्रयास में ही प्रेरणा ने प्राप्त किया 57वां रैंक

यूपीएससी की परीक्षा में पहले प्रयास में ही प्रेरणा ने बाजी मारी। प्रेरणा ने यूपीएससी के परीक्षा में 57वां रैंक लाकर एक बार फिर समस्तीपुर का नाम देश स्तर पर रौशन कर दिया। प्रेरणा मूलरूप से समस्तीपुर शहर के काशीपुर श्रीकृष्णापुरी की रहने वाली है। उनके पिता अनिल प्रसाद सिंह, शिक्षक प्रशिक्षण कॉलेज में प्रोफेसर हैं, जबकि माता पूनम सिन्हा धनबाद जवाहर नवोदय विद्यालय में पीजीटी इतिहास में शिक्षक हैं। पूनम सिन्हा ने बताया कि इस सफलता की सूचना स्वयं प्रेरणा ने उन्हें फोन पर दी। सूचना मिलते ही घर के सभी लोग खुशी मनाने लगे। इसके बाद अपने रिश्तदारों को भी इसकी सूचना दी गयी। फिर यह खुशी मोहल्लों में फैल गयी। फिर क्या, बधाई देने वालों शुभचिंतकों की भीड़ उनके घर पर जुटने लगे। तीन भाई बहनों में प्रेरणा सबसे बड़ी है। प्रेरणा मैट्रिक तक की पढ़ाई समस्तीपुर से ही की। जबकि बारहवीं की पढ़ाई पटना सेंट्रल स्कूल से की। इसके बी बीआईटी भेल्लौड़ से बीटेक एवं राउरकेला एनआईटी से एमटेक की उपाधि हासिल की। इसके बाद प्रेरणा कभी पिछे मुड़कर नहीं देखी। पहली बार में ही निकाली आईएफएस की परीक्षा : एमटेक की परीक्षा में सफलता हासिल करने के बाद वह प्रतियोगिता की तैयारी में जुट गयी। वर्ष 2013 में प्रेरणा पहली बार आईएफएस की परीक्षा में शामिल हुई। जिसमें उसका चयन भी हो गया। जिसके बाद वह आईएफएस के प्रशिक्षण में गयी। फिलहाल झारखंड के रामगढ़ में डीएफओ का पद बखूबी संभाल रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:UPSC: In the first attempt only inspiration has achieved 57th rank