ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार समस्तीपुरफॉल आर्मी वर्म कीट से निपटने को विवि तैयार

फॉल आर्मी वर्म कीट से निपटने को विवि तैयार

समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर और बेगूसराय में फॉल आर्मी वर्म कीट के फैलने की जानकारी मिलने के बाद डॉ. राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. रमेशचंद्र श्रीवास्तव ने इस कीट से निपटने के...

फॉल आर्मी वर्म कीट से निपटने को विवि तैयार
हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरWed, 11 Sep 2019 12:02 AM
ऐप पर पढ़ें

समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर और बेगूसराय में फॉल आर्मी वर्म कीट के फैलने की जानकारी मिलने के बाद डॉ. राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. रमेशचंद्र श्रीवास्तव ने इस कीट से निपटने के लिए कमेटी का गठन किया है। इसमें तीस से अधिक वैज्ञानिकों को लगाया गया है। वैज्ञानिक निदेशक अनुसंधान डॉ. मिथिलेश कुमार के नेतृत्व में क्षेत्र भ्रमण कर कीट की जानकारी प्राप्त करेंगे और किसानों को इससे निपटने के उपायों के बारे में जागरूक करेंगे।

फॉल आर्मी वर्म कीट की पहचान अफ्रीका में पहली बार की गयी थी। इस कीट के कारण अफ्रीका में खेतों में भयंकर तबाही मची थी। यह कीट रातों रात सैंकड़ों एकड़ खेत को बर्बाद कर सकता है। इसका प्रकोप ज्यादातर मक्के की फसल पर देखा गया है लेकिन यह अन्य फसलों को भी बर्बाद कर सकता है। इस कीट से बचने के लिये विश्वविद्यालय की ओर से हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है।

कॉल सेंटर को दें जानकारी

विश्विद्यालय के कुलपति ने किसानों से अपील करते हुए कहा है कि यदि फोटो में दिखाया गया कीट उनके फसलों पर या खेत में मिले तो इसकी सूचना तुरंत विश्वविद्यालय के कॉल सेंटर नंबर पर दे ताकि वैज्ञानिक वहां पहुंच कर कीट को छोटे क्षेत्र में ही सीमित कर उसका प्रबंधन कर सकें।

कॉल सेंटर पर किसान ले सकते हैं जानकारी

किसान किसी भी तरह की जानकारी के लिये विश्वविद्यालय के कॉल सेंटर नंबर 9334997626 पर कॉल कर सकते हैं। फॉल आर्मी वर्म कीट से निपटने के लिए बनाई गई कमेटी की विशेष बैठक 17 सितम्बर 19 को आयोजित की गई है। इस बैठक में बाह्य विशेषज्ञ और किसान भी शामिल होंगे। बैठक को विश्वविद्यालय के कुलपति संबोधित करेंगे। डॉ. श्रीवास्तव ने निदेशक अनुसंधान डॉ. मिथिलेश कुमार को फाल आर्मी वर्म कीट से निपटने के लिए सभी जरूरी उपाय युद्ध स्तर पर करने के निर्देश दिए हैं ताकि बिहार के किसानों को किसी भी प्रकार का नुकसान न हो।