ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार समस्तीपुरराजद नेता रंजीत राय हत्याकांड मामले में दो आरोपी गिरफ्तार

राजद नेता रंजीत राय हत्याकांड मामले में दो आरोपी गिरफ्तार

समस्तीपुर। मुसरीघरारी थाना के बी एलौथ में चार महीने पूर्व हुए राजद नेता व...

राजद नेता रंजीत राय हत्याकांड मामले में दो आरोपी गिरफ्तार
default image
हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरMon, 17 Jun 2024 10:30 PM
ऐप पर पढ़ें

समस्तीपुर। मुसरीघरारी थाना के बी एलौथ में चार महीने पूर्व हुए राजद नेता व पूर्व जिला पार्षद रंजीत राय हत्याकांड मामले में पुलिस ने दो आरोपी को गिरफ्तार किया है। साथ ही उसके निशानदेही पर रंजीत राय के गायब दो मोबाइल भी बरामद किया गया है। एएसपी संजय कुमार पांडये ने सोमवार को प्रेसवार्ता करते हुए कहा कि एक फरवरी को बी एलौथ में सड़क किनारे दो युवक को बेहोशी की हालत में मिले थे। जिसे इलाज के लिए सदर अस्पताल भेजा गया, जहां रंजीत राय को मृत घोषित कर दिया गया। वहीं दूसरे सुनील राय का इलाज किया गया।
एएसपी ने बताया कि रंजीत राय हत्याकांड मामले में तकनीकि अनुसंधान के बाद पुलिस ने मुसरीघरारी थाना के वार्ड संख्या 44 निवासी जटहू राम एवं हरपुर एलौथ के राजा कुमार को गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में राजा ने बताया कि घटना स्थल केपास ही जटहू राम भुंजा का दुकान है। राजा अपने पिता के साथ गाने बजाने का काम कर मुजफ्फरपुर से लौटा और गुटका खाने के लिए दुकान की ओर गया। जहां जटहू राम अपने दुकान का सामान समेट रहा था, जो राज को दुकान का सामान समेटने के बदले गुटका खिलाने की बात कहा। इस पर राजा ने दुकान का सामान समेट दिया। जिसके बाद जटहू ने बताया कि दुकान के पीछे दो आदमी एक मढई में काफी देर से है, चलो देखते हैं। जब दोनों मढई में गया तो देखा कि दो व्यक्ति मुंह भर के जमीन पर लेटा है, जिसके मुंह से गाज निकल रहा है और वहां पर एक इंजेक्शन फेंका हुआ है। जिसके बाद जटहू राम रंजीत राय के पॉकेट से आधार कार्ड एवं आठ सौ रुपए एवं मोबाइल एवं सुनील राय के पॉकेट से मोबाइल निकाल लिया और मोबाइल का सिम चबाकर फेंक दिया। जिसके बाद दोनों रुपए एवं एक-एक मोबाइल बांट लिया। फिर किसी को शक ना हो इस लिए दोनों ने रात होते ही दोनों व्यक्ति को घसीटकर थोड़ी दूर आगे चाय दुकान के पास रोड़ पर सुला दिया और ये लोग अपने घर चले गए। एएसपी ने बताया कि अभी रंजीत राय के मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है। एफएसएल रिपोर्ट एवं वेसरा रिपोर्ट आने के बाद ही मौत का कारण स्पष्ट हो पाएगा। इस कांड के अनुसंधान में चार महीने का समय लगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।