DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार समस्तीपुरस्वास्थ्य योजनाओं में पिछड़ रहे अस्पतालों को टास्क

स्वास्थ्य योजनाओं में पिछड़ रहे अस्पतालों को टास्क

हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 11:01 PM
स्वास्थ्य विभाग में संचालित योजनाओं के लक्ष्य को पूरा करने में जिले के अधिकांश अस्पताल पिछड़ रहे...
1/ 2स्वास्थ्य विभाग में संचालित योजनाओं के लक्ष्य को पूरा करने में जिले के अधिकांश अस्पताल पिछड़ रहे...
स्वास्थ्य विभाग में संचालित योजनाओं के लक्ष्य को पूरा करने में जिले के अधिकांश अस्पताल पिछड़ रहे...
2/ 2स्वास्थ्य विभाग में संचालित योजनाओं के लक्ष्य को पूरा करने में जिले के अधिकांश अस्पताल पिछड़ रहे...

स्वास्थ्य विभाग में संचालित योजनाओं के लक्ष्य को पूरा करने में जिले के अधिकांश अस्पताल पिछड़ रहे हैं। कोरोना टीकाकरण को छोड़कर स्वास्थ्य विभाग की कई महत्वपूर्ण योजनाएं अधर में लटकी हुई है। इससे फिर से इन योजनाओं को पटरी पर लाने का प्रयास करना होगा। जिले के सभी पीएचसी एवं अनुमंडलीय अस्पतालों की भौतिक एवं वित्तीय समीक्षा में इसका खुलासा हुआ। शहर के बनारस स्टेट परिसर में आयोजित समीक्षा बैठक में सीएस डॉ. सत्येंद्र कुमार गुप्ता ने सभी योजनाओं की समीक्षा के बाद सभी पीएचसी को निर्धारित लक्ष्य को जल्द पूरा करने का निर्देश दिया। इस दौरान कई योजनाओं में पिछड़ने पर पीएचसी प्रभारियों को चेतावनी भी दी गयी। बता दें कि 30 अक्टूबर को राज्य स्तरीय बैठक में दिए गए निर्देश एवं व्यय की राशि को बढ़ाने तथा जिले की उपलब्धियों के लिए लक्ष्य को पूरा करने का निर्देश दिया गया था। जिसके बाद जिले के सभी पीएचसी की समीक्षा की गयी। सीएस ने पीएचसी प्रभारियों को निर्देश देते हुए कहा कि सभी योजनाओं पर अब ध्यान देने की जरुरत है। ताकि एक बार फिर समस्तीपुर राज्य में टॉप लेवल पर पहुंच सके। इसके तहत मातृ स्वास्थ्य, शिशु स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, नियमित टीकाकरण, हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर, संचारी एवं गैर संचारी रोग सहित अन्य योजनाओं की समीक्षा की गयी। मौके पर डीआईओ डॉ. सतीश कुमार सिंहा, डीपीएम सौरेंद्र कुमार दास, डीपीसी डॉ. आदित्य नाथ झा, डीएएम अभिनय कुमार सिंहा, जिला मूल्यांकन अधिकारी आलोक कुमार, आरबीएसके जिला समन्वयक डॉ. विजय कुमार, आईडीएसपी आरिफ अली सिद्दीकी, सुमन कुमार सहित सभी पीएचसी प्रभारी, बीएचएम, बीसीएम आदि थे।

परिवार कल्याण योजना को नहीं मिली गति:

स्वास्थ्य विभाग में परिवार कल्याण योजना के तहत बंध्याकरण, गर्भ निरोधक सामग्री, कॉपर टी योजनाओं को गति नहीं दिया जा सका। जिसके कारण जिले में लक्ष्य पूरा नहीं हो सका। सीएस ने सभी प्रभारियों को इस महत्वपूर्ण योजनाओं को गति देने एवं प्रचार प्रसार कराने का आदेश दिया। ताकि सरकार के जनसंख्या स्थिरिकरण के उद्देश्य को बल मिल सके।

संस्थागत प्रसव में पिछड़ा यह अस्पताल:

सुरक्षित मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य के लिए संचालित संस्थागत प्रसव योजना में भी कई अस्पताल वित्तिय उपलब्धियों में पिछड़ गया है। समीक्षा के दौरान हसनपुर, कल्याणपुर, वारिसनगर, दलसिंहसराय व रोसड़ा की स्थिति सहीं नहीं थी। सीएस ने इन सभी अस्पतालों के प्रभारी एवं बीएचएम को योजनाओं में गति लाने के लिए प्रयास करने का आदेश दिया।

लाभार्थियों को नहीं मिली राशि:

परिवार कल्याण योजना की समीक्षा के दौरान बंध्याकरण, कॉपर टी, गर्भ निरोधक सामग्री के वितरण एवं लाभार्थियों के बीच राशि वितरण में हसनपुर, सरायरंजन, शिवाजीनगर, पूसा की स्थिति काफी खराब पायी गयी। सीएस ने लाभार्थियों के बीच बकाया राशि का वितरण करने एवं प्रत्येक आंगनबाड़ी केंद्रों पर सास बहु सम्मेलन कराने का आदेश दिया।

पोर्टल पर दैनिक प्रतिवेदन नहीं:

हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर किए गए कार्यों को नियमित रुप से पोर्टल पर अपलोड करना है। समीक्षा के दौरान पाया गया कि पूसा, रोसड़ा, शिवाजीनगर, कल्याणपुर, विभूतिपुर के द्वारा दैनिक प्रतिवेदन पोर्टल पर अपलोड नहीं किया जाता है। वहीं नियमित टीकाकरण में बिथान, खानपुर, समस्तीपुर, सिंघिया की स्थिति काफी खराब है। जिसे पूरा करने का निर्देश दिया गया।

अनमोल एप को भी करें अपडेट:

अस्पतालों में प्रत्येक दिन गर्भवती महिलाओं एवं बच्चों को दी जा रही सेवाओं को अनमोल एप पर अपलोड करना है। इसकी जिम्मेदारी संबंधित एएनएम को दी गयी है। इसके बावजूद अनमोल एप को अपडेट नहीं किया जा रहा है। जबकि एएनएम को अनमोल एप पर अपलोड का प्रशिक्षण भी दिया जा चुका है। सीएस ने पीएचसी प्रभारियों को निर्देश दिया कि प्रत्येक दिन अनमोल एप को अपडेट करवाना सुनिश्चित करें। अन्यथा दोषी एएनएम पर कारवाई की जाएगी।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें