ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार समस्तीपुरइमरजेंसी में समस्तीपुर में गिरफ्तार हुए थे सुशील मोदी

इमरजेंसी में समस्तीपुर में गिरफ्तार हुए थे सुशील मोदी

समस्तीपुर। पूर्व उप मुख्यमंत्री व भाजपा के दिवंगत नेता सुशील कुमार मोदी का समस्तीपुर...

इमरजेंसी में समस्तीपुर में गिरफ्तार हुए थे सुशील मोदी
हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरWed, 15 May 2024 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

समस्तीपुर। पूर्व उप मुख्यमंत्री व भाजपा के दिवंगत नेता सुशील कुमार मोदी का समस्तीपुर से गहरा लगाव था। वे संगठन के काम से छात्र जीवन से ही समस्तीपुर आते-जाते थे। जिससे समस्तीपुर के कई लोगों से उनका व्यक्तिगत संबंध था। आपातकाल में उन्हें समस्तीपुर में गिरफ्तार किया गया था। भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश मंत्री रह चुके शशिकांत आंनद ने बताया कि सुशील मोदी छात्र जीवन से ही समस्तीपुर आते जाते थे। आपातकाल में उन्हें केई इंटर स्कूल रोड में पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उस समय वे रिक्शा से संगठन के एक बैठक में शामिल होने जा रहे थे।
उन्होंने बताया कि समस्तीपुर में गिरफ्तार करने के बाद पुलिस उन्हें मुजपफरपुर ले गयी थी। उन्होंने बताया कि बाद में सुशील मोदी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री भी बने। संगठन के काम से समस्तीपुर आने जाने के दौरान उनका कई लोगों से व्यक्तिगत संबंध हो गया था। उनका भी सुशील मोदी से 40 साल का सांगठनिक रिश्ता था। वे सभी का समय समय पर हाल चाल लेते रहते थे। विद्यार्थी परिषद के बाद भाजपा में जाने के बाद भी उनका समस्तीपुर से लगाव बना रहा। संगठन की मजबूती के लिए वे बराबरआते थे। इसके अलावा कोई बड़ी घटना होने पर भी जायजा लेने के लिए समस्तीपुर आते थें।

संघर्षशील नेता थे सुशील मोदी : दुर्गेश

शशिकांत ने बताया कि समस्तीपुर में संगठन के विस्तार में सुशील मोदी की अहम भूमिका थी। वे अंतिम बार सात साल पूर्व 2017 में भाजपा के प्रशिक्षण वर्ग में आये थे। तब कार्यकर्ताओं को एक एक बिन्दू पर संगठन का महत्व समझाया था। भाजपा के पूर्व लिा अध्यक्ष रामसुमरन सिंह ने बताया कि सुशील मोदी में संगठन की अद्भूत क्षमता थी। वे कार्यकर्ताओं की क्षमता पहचान उसी के अनुरूप काम में लगाते थे। कायर्श्कर्ताओं से वे लगाव भी रखते थे। जदयू के जिला अध्यक्ष डॉ. दुर्गेश राय ने बताया कि सुशील मोदी संघर्षशील नेता थे। राजनीतिक जीवन में उन्होंने काफी संघर्ष किया जिसके कारण बिहार ही नहीं देश मेंउनकी अलग पहचान थी। वे जिसके साथ होते थे उसकी कद्र करना भी जानते थे। यही कारण था कि भाजपा व जदयू का रिश्ता लंबे समय तक बना हुआ है।

सुशील मोदी ने ही मुझे बनाया था विधायक: राणा गंगेश्वर

मोहिउद्दीननगर/शाहपुर पटोरी। पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने मुझे विधायक बनाकर मेरे सपनों को साकार किया था। उनकी प्रेरणा से ही मैंने एमएलए से लेकर एमएलसी तक का सफर तय किया। ये बातें पूर्व विधायक राणा गंगेश्वर सिंह ने शोकसभा में कही। शोक सभा में लोगो ने पूर्व डिप्टी सीएम के चित्र पर पुष्पांजलि करने के बाद दो मिनट का मौन रखा। अध्यक्षता पैक्स अध्यक्ष राणा संजीव सिंह ने की। दूसरी ओर मदुदाबाद शक्ति केंद्र पर श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गई। अध्यक्षता नमामि गंगे के जिला संयोजक धर्मवीर कुमार कुंवर व संचालन केंद्र प्रमुख बिपिन कुमार साह ने किया। जिसमे पूर्व डिप्टी सीएम के चित्र पर पुष्प अर्पित की गई। मौके पर सन्नी कुमार शर्मा, कृष्णानंद महतो, नोखेलाल दास, राजवंसी साह आदि लोग मौजूद थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें