ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार समस्तीपुरशहर की छह हजार दुकानों को मापतौल विभाग का लाइसेंस नहीं

शहर की छह हजार दुकानों को मापतौल विभाग का लाइसेंस नहीं

समस्तीपुर। जिले के आम उपभोक्ता इन दिनों घटतौली के शिकार हो रहे हैं। यह सब

शहर की छह हजार दुकानों को मापतौल विभाग का लाइसेंस नहीं
हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरWed, 29 May 2024 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

समस्तीपुर। जिले के आम उपभोक्ता इन दिनों घटतौली के शिकार हो रहे हैं। यह सब मापतौल विभाग की कृपा कहें या फिर उसकी लापरवाही से हो रहा है। माप व तौल से जुड़े व्यवसाय करने वाले सभी व्यवसायियों के लिए माप व तौल उपकरणों का सत्यापन व मुहरांकन कराना कानूनी रूप से अनिवार्य है। ऐसा नहीं करने वाले पर कार्रवाई का प्रावधान है। फिर भी इस नियम को अधिकांश व्यवसायी नहीं मानते हैं। वे अपने मापतौल उपकरणों का बिना सत्यापन व मुहरांकित कराए धड़ल्ले से व्यवसाय करते हैं। इससे उपभोक्ताओं को घटतौली का शिकार होना पड़ता है।
मिली जानकारी के अनुसार, दुकानदार अपने तरीक़े से माप तौल उपकरणों का जुगाड़ कर उपभोक्ताओं को सामान देते हैं। अपनी अधिक व्यवस्था के कारण वे अपने सामान के वजन पर गौर नहीं कर पाते। सामान तुरंत लेकर घर चले जाते हैं।

इस संबंध में पूछने पर समस्तीपुर माप तौल विभाग के सहायक नियंत्रक प्रभाकर भारती ने बताया कि जिले में कुल 8303 विभिन्न तरह के सत्यापित व्यवसायिक प्रतिष्ठान हैं। समस्तीपुर सदर में 3870, पटोरी में 1126, दलसिंहसराय में 1163 व रोसड़ा में 2044 सत्यापित व्यवसायिक प्रतिष्ठान हैं। जिन लोगों ने अभी तक विभाग से अपने यंत्रों का सत्यापन नहीं कराया है, उन्हें चिह्नित कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। समय समय पर विभाग की ओर से व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर निरीक्षण का अभियान भी चलता रहता है। कुल 117 व्यवसायियों के खिलाफ न्यायालय में अभियोग पत्र दायर किया हुआ है। 1417 लोगों को नोटिस भी जारी की गई थी। वैसे विभाग के पास कर्मचारियों की संख्या बहुत कम है। वरीय अधिकारियों को इससे अवगत कराया गया है।

मापतौल विभाग के जिम्मे आते हैं ये प्रतिष्ठान

थोक व खुदरा गल्ला की दुकानें, सभी ज्वेलरी शॉप्स, हार्डवेयर की दुकानें, सभी पेट्रोल पंप, सभी धर्म कांटा, सभी कोल्ड स्टोरेज, सभी जनवितरण प्रणाली की दुकानें, फैक्ट्रियां, पैक्स व व्यापार मंडल, कपड़े की दुकानें, स्वीट्स शॉप, सब्जी व फल की दुकानें, सभी बैंकों के लॉकर, रेलवे व पोस्ट ऑफिस के पार्सल घर, आरा मिलें, कीट नाशक दवा दुकानें आदि।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।