DA Image
Friday, December 3, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार समस्तीपुर पंडों ने की हाथापाई, पुलिस ने किया बल प्रयोग

पंडों ने की हाथापाई, पुलिस ने किया बल प्रयोग

हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरNewswrap
Tue, 27 Jul 2021 04:31 AM

पंडों ने की हाथापाई, पुलिस ने किया बल प्रयोग

कुशेश्वरस्थान। सावन की पहली सोमवारी में बाबा कुशेश्वर नाथ महादेव मंदिर का गेट बंद रहने के बावजूद हजारों श्रद्धालु आए और बाहर से ही पूजा-अर्चना कर लौट गए। सरकारी आदेश के आलोक में स्थानीय न्यास समिति और मंदिर प्रशासन यात्री का प्रवेश न हो इस पर चौकस दिखा। परन्तु इससे आक्रोशित कुछ पंडों ने पुलिस और न्यास कर्मी से हाथापाई तक कर ली। हालांकि इस पर नियंत्रण के लिए पुलिस को थोड़ी लाठी भी भांजनी पड़ी। पहली सोमवारी को लेकर भक्त अहले सुबह से कुशेश्वरस्थान में जुटने लगे, परन्तु मंदिर का मुख्य द्वार बंद रहने के कारण मायूस होकर बैरियर के पास ही जल-फूल चढ़ा कर लौटने लगे। यह भीड़ सुबह 10 बजे के बाद अनियंत्रित हो गयी। न्यास समिति की ओर से अन्य वर्षों की अपेक्षा इस वर्ष कुछ भी व्यवस्था नहीं थी। इस बाबत थानाध्यक्ष गौतम कुमार ने बताया कि सरकारी निर्देशों के आलोक में मंदिर बंद है। बाबजूद जिन पड़ों ने हाथापाई की है उन्हें चिह्नित कर कार्रवाई की जाएगी। अलीनगर : प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न शिव मंदिरों एवं पीपल पेड़ों के पास सोमवार को सावन की पहली सोमवारी पर पूजा-अर्चना के लिए दिन भर श्रद्धालुओं की भीड़ से पूरा माहौल भक्तिमय रस से सराबोर हो रहा था। हर तरफ हो रही हर हर महादेव की जय घोष लोगों मंत्र मुग्ध कर रही थी। हालांकि कई मंदिरों में पुजारियों द्वारा कोरोना नियम का पालन करते हुए मुख्य द्वार को बंद रखा गया था। बावजूद श्रद्धालुओं की आस्था देखने को मिल रही थी। लोग मंदिर के बाहर से ही नियमानुकूल पूजा-अर्चना कर वापस हो रहे थे। इस क्रम में बाबा पंचानाथ महादेव मंदिर अंटौर, वाटगंज, नरमा, गरौल, पिरहौली, अलीनगर, मनहर, हरियठ, अंदौली, हनुमाननगर, अधलोआम, शंकरपुर, लहटा, तुमौल, सुहथ और मोतीपुर आदि गांवों में उत्साहपूर्ण माहौल देखा गया। जबकि कई गांवों में शिव गुरु परिचर्चा कार्यक्रम में भी श्रद्धालुगण झूमते हुए देखे गए। मनीगाछी : सावन की पहली सोमवारी को प्रखंड क्षेत्र के टटुआर,माउंबेहट, नेहरा,राजे,चनौर सहित अन्य गांवों में स्थित शिवालयों में श्रद्धा पूर्वक जलाभिषेक किया।सावन माह में शिव पूजा की विशेष महिमा को लेकर मंदिरों को विशेष रूप से सजाया गया था।शिव महिमा के स्तोत्रों की धुन से शिवालयों का वातावरण भक्तिमय बना हुआ था। बोल बम के नारे लगाते हुए पहुंच रहे शिव भक्त वैदिक मंत्रों का गान करते हुए शिवलिंगों पर जलाभिषेक करने के लिए पंक्ति बद्ध होकर मंदिरों में प्रवेश कर रहे थे। जाले : रतनपुर स्थित गंगेश्वरस्थान शिवालय में पहली सोमवारी के मौके पर जलाभिषेक को लेकर शिवभक्तों की अपार भीड़ उमड़ पड़ी। शिवभक्तों ने कतारबद्ध होकर पंडा पोखर से पवित्र जलभरकर बाबा गंगश्वरनाथ का जलाभिषेक किया। सैंकड़ों की संख्या में शिवभक्तों ने गौतमकुंड से पवित्र जल भरकर हर हर महादेव आदि जयकारे लगाते हुए गंगेश्वरस्थान पहुंचे और जलाभिषेक किया। वहीं इलाके के कोने कोने से दर्जनों शिवभक्त दंड प्रणाम करते हुए शिवालय पहुंचकर जलाभिषेक किया। घनश्याम झा, मनोज कुमार झा, महेश्वर झा, अवधेष झा आदि पंडा का कहना था कि शिवालय परिसर की घेराबंदी नहीं रहने की वजह से मंदिर में आरती के समय हीं जलाभिषेक करने के लिए शिवभक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। इसलिए वे लोग शिव मंदिर का द्वार बंद नहीं कर पाए। उसके बाद तो दोपहर तक शिवभक्तों की भीड़ लगी रही।शिवालय में जलाभिषेक होने की सूचना मिलने पर दरभंगा, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी और मधुबनी के सीमावर्ती इलाके के लोग जलाभिषेक करने के लिए गंगेश्वरस्थान की ओर दोड़ पड़े। इसके अलावा महादेव मनमा स्थित मानेश्वरस्थान, पकटोला, चंदौना आदि शिवालयों में भी शिवभक्तों ने कतारबद्ध होकर जलाभिषेक किया। बिरौल : देकूली के देवेश्वरनाथ महादेव, सुपौल के मंदिर घाट, बुआंरी के गंगेश्वरनाथ महादेव, उछटी, पोखराम, साहो, पटनिया सहित क्षेत्र के सभी शिवालयों में पूजा-अर्चना के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी। वहीं शाम से देर रात तक शिव स्त्रोत व भजन कीर्तन से लोग झूमते रहे। केवटी : सावन की पहली सोमवारी को प्रखंड के रनवे,दड़िमा,नयागांव, पैगंबर पुर,पचाढी,बाढ़ पोखर, हाजीपुर तथा कर्जापट्टी के शिव मंदिरों में भकतों की भीड़ उमड़ी। बड़ी संख्या में भक्तों ने शिवलिंग पर जलाभिषेक कर पूजा अर्चना की। घनश्यामपुर : सावन की पहली सोमवारी को अहले सुबह से ही हर हर महादेव की उद्घोष से ग्रामीण क्षेत्र गुंजायमान रहा। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने हरनेश्वरनाथ मंदिर जयदेवपट्टी,गोढैल मठ प्राचीन शिव मंदिर, अहिरान मठ महादेव मंदिर, हरद्वार,द्वादश ज्योतिर्लिंग गलमा धाम सहित विभिन्न शिवालयों में पूजा-अर्चना कर जलाभिषेक किया।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें