DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  समस्तीपुर  ›  विवि अस्पताल में लगा ऑक्सीजन कंसट्रेटर
समस्तीपुर

विवि अस्पताल में लगा ऑक्सीजन कंसट्रेटर

हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरPublished By: Newswrap
Fri, 18 Jun 2021 04:50 AM
विवि अस्पताल में लगा ऑक्सीजन कंसट्रेटर

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विवि अस्पताल में आक्सीजन कंसट्रेटर लग गई है। इससे अब आपातकाल में भी किसी मरीज को ऑक्सीजन की समस्या का सामना नहीं करना होगा। यह विवि के कृषि अभियंत्रण महाविद्यालय के अमेरिका में रह रहे के पूववर्ती छात्र (1997) डॉ. सरोज कुमार झा के सहयोग से उपलब्ध हुआ है। गुरुवार को विवि के कुलपति डॉ. आरसी श्रीवास्तव ने इसका उद्घाटन किया। मौके पर कुलपति व अन्य वैज्ञानिकों ने अमेरिका व अन्य देशों में रह रहे पूर्ववर्ती छात्रों से वर्चुअल मोड में वार्ता कर इसके लिए धन्यवाद दिया एवं विवि की अन्य नई गतिविधियों को अवगत कराते हुए आने का निमंत्रण दिया। इस दौरान कुलपति ने अस्पताल में यह सुविधा बढ़ने से होने वाले फायदों व पूर्ववर्ती छात्रो का विवि के प्रति लगाव व सहयोग की प्रशंसा की। मौके पर कुलसचिव डॉ. पीपी श्रीवास्तव, डीन डॉ. सोमनाथ राय चौधरी, डॉ. अम्बरीश कुमार, डॉ. एसके जैन, डॉ. पीके प्रणव, उपकुलसचिव डॉ. रमेश कुमार पाठक, सीएमओ डॉ.बच्चा बाबू, डॉ. अभिषेक कुमार, बिरेन्द्र सिंह समेत अन्य अस्पताल कर्मी मौजूद थे।

क्या है ऑक्सीजन कंसट्रेटर

अस्पताल के सीएमओ डॉ. बच्चा बाबू ने बताया कि ऑक्सीजन कंसटे्रटर काफी छोटा यंत्र है। इसे आसानी से एम्बुलेंस समेत मरीजों की जरूरतों के मुताबिक कहीं भी ले जाया सकता है। यह ऑक्सीजन की 95 प्रतिशत तक शुद्धता की गारंटी उपलब्ध कराता है। इसकी क्षमता 5 लीटर प्रति मिनट है। ऑक्सीजन के बड़े सिलिंडर की अनुपलब्धता की स्थिति में यह काफी मददगार साबित होगा।

युवाओं ने बांटा कोरोना बचाव किट

उजियारपुर। नि. सं.

समस्तीपुर कोविड फोर्स के तत्वावधान में गुरुवार को युवाओं की टोली ने कोरोना से बचाव के लिए किट का वितरण किया। उन्होंने पचपैका, महथी, परोरिया, बेलामेघ आदि गांव में किट बांटा। किट में प्रारंभिक अवस्था मे उपयोग की जाने वाली दवा मल्टी विटामिन, जिंक, सिट्रिजन व प्रतिरोध क्षमता बढ़ाने वाली अन्य आयुर्वेदिक दवाओं के अलावा मास्क, साबुन व जागरूक करने वाले हैण्ड बिल शामिल थे। मौके पर संस्था के राकेश कुमार, सुशील शर्मा ने लोगो को संस्था का फोन नं. देकर संक्रमित होने के स्थिति में सूचना देने को कहा ताकि पैसे के अभाव में उपचार अथवा अस्पताल जाने में परेशानी नही हो।

संबंधित खबरें