DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  समस्तीपुर  ›  अस्पतालों में आईपीडी सेवा को शुरु करने का आदेश
समस्तीपुर

अस्पतालों में आईपीडी सेवा को शुरु करने का आदेश

हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरPublished By: Newswrap
Sat, 19 Jun 2021 04:21 AM
अस्पतालों में आईपीडी सेवा को शुरु करने का आदेश

समस्तीपुर। हिन्दुस्तान संवाददाता

कोरोना संक्रमण का प्रसार कम होने के बाद अब जिले के सभी अस्पतालों में आईपीडी और ओपीडी सेवा तत्काल शुरू करने का आदेश दिया गया है। इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने सभी संबंधित अधिकारियों को पत्र भेज निर्देश दिया है। हालांकि समस्तीपुर जिले में केवल एपीएचसी में ही ओपीडी सेवा बंद की गयी थी, जबकि सदर व अनुमंडलीय अस्पतालों में ओपीडी सेवा जारी रखी गयी थी। जून के पहले सप्ताह से ही एपीएचसी में भी ओपीडी सेवा को शुरु कर दिया गया था। लेकिन सदर अस्पताल में आज भी आईपीडी सेवा में केवल संस्थागत प्रसव का कार्य ही कराया जा रहा है। आईपीडी सेवा शुरु होने से मरीजों को काफी राहत मिलेगी। बता दें कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते ही अप्रैल से सदर अस्पताल में आईपीडी सेवा बंद कर दी गयी थी। जिसके कारण सभी प्रकार के ऑपरेशन बंद हो गये थे। जिससे गंभीर मरीज आने पर उसे डीएमसीएच व पीएमसीएच भेजा जाता था। इससे अन्य रोगों के मरीजों को ससमय उपचार करवा पाने में परेशानी का सामना करना पड़ा। इसको ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने तत्काल प्रभाव से सभी चिकित्सीय संस्थानों में ओपीडी और आईपीडी सेवा को तत्काल बहाल करने का निर्णय लिया है।

कोविड व पोस्ट कोविड के बेड रिजर्व:

अस्पतालों में ओपीडी व आईपीडी सेवा शुरु करने के बाद भी जिले में 100 बेड कोविड-19 संक्रमित मरीजों के लिए एवं 25 बेड पोस्ट कोविड स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से ग्रस्त मरीजों के इलाज के लिए सुरक्षित रखने का आदेश दिया गया है। ताकि संक्रमित मरीजों के मिलने के बाद उसके इलाज में किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं हो।

अनुमंडलीय अस्पताल में डीएम लेंगे निर्णय:

स्वास्थ्य विभाग ने पत्र जारी करते हुए कहा है कि अनुमंडलीय अस्पतालों एवं अन्य अस्पतालों में संचालित डेडीकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर एवं कोविड केयर सेंटर के सम्बन्ध में डीएम के स्तर पर समीक्षा के उपरांत कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए बेड की संख्या का निर्धारण कर सुरक्षित रखा जाएगा। सभी अस्पतालों में ओपीडी और आईपीडी की सेवा तत्काल प्रभाव से बहाल की जाए.

संबंधित खबरें