DA Image
17 सितम्बर, 2020|5:00|IST

अगली स्टोरी

रेलवे निजीकरण व कर्मियों की छंटनी को लेकर नुक्कड़ सभा

1 / 2Nukkad Sabha regarding railway privatization and retrenchment of personnel

2 / 2Nukkad Sabha regarding railway privatization and retrenchment of personnel

PreviousNext

रेल मंडल मुख्यालय स्थित डीजल लोको शेड  में लोको शाखा ने नुक्कड़ नाटक का आयोजन किया। यह कार्यक्रम महामंत्री एसएपी श्रीवास्तव, मंडलमंत्री केके मिश्रा के दिशा-निर्देश में  व ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन के आह्वान पर किया गया।
 इस दौरान वक्ताओं ने कहा कि भारत सरकार एवं रेलवे मंत्रालय की ओर से आए दिन मजदूर विरोधी व कर्मचारियों की छटनी पर व रेलवे को निजी हाथों में बेचा जा रहा है। इसको लेकर आंदोलन व जनजागरण की जरूरत है।
इससे रेल ही नहीं भारत के तमाम संस्थान आर्थिक मंदी से जूझ रहे हैं व नौजवान साथी जो पढ़ लिखकर के बेरोजगारी की मार झेल रहे हैं। रेल मंत्रालय  की ओर से 55 वर्ष की आयु पूरी होने अथवा 30 वर्ष की सेवा पूरी होने वाले कर्मचारियों को सर्विस रिव्यू फरमान से रेल कर्मचारी ही नहीं उसके परिवार के लोग को भी इस संकट को झेलना पड़ेगा।
 साथ ही केंद्र सरकार की ओर से सरकारी संस्थान को निजीकरण, निगमीकरण करने से देश मे पढ़े लिखे नौजवान साथियों को बेरोजगारी की मार और झेलना पड़ेगी।  आयोजक सुशील कुमार ने  बताया कि इससे केवल रेल ही नहीं देश के प्रत्येक नागरिक व युवाओं को भयंकर नुकसान है। इस नुक्कड़ नाटक को मनोज कुमार, पंकज कुमार रंजन, श्याम सुन्दर, मुकेश कुमार, प्रदीप कुमार, संजय कुमार पंडीत, आनन्द कुमार, अनिल कुमार यादव, विपल्लव चौबे इत्यादि  ने मिलकर किया ।
इस आयोजन में मंडल मंत्री केके मिश्रा, शाखा सचिव सत्य नारायण राय, संयुक्त शाखा सचिव राज कुमार, शाखा पदाधिकारी सतीश चौधरी, विजय कुमार राय, आनन्द सिंह, राजेश लाल, सत्यम चौधरी, रंजन कुमार, नंद किशोर एवम समस्त डीजल परिवार उपस्थित रहे। मंडल मंत्री ने बताया कि  18 सितंबर को मशाल जुलूस व 19 सितंबर को  काला बिल्ला लगाकर विरोध किया जाएगा। कार्यक्रम की  अध्यक्षता मंडल उपाध्यक्ष एस के भारद्वाज, संचलन मंडल कोषाध्यक्ष चंद्रशेखर सिंह ने किये। कार्यक्रम में मुख्यालय शाखा अध्यक्ष मनोज कुमार, अमरजीत कुमार आनंद सिंह आदि ने भाग लिया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Nukkad Sabha regarding railway privatization and retrenchment of personnel