DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › समस्तीपुर › महामारी से निजात के लिए शुरू हुई थी माता की पूजा
समस्तीपुर

महामारी से निजात के लिए शुरू हुई थी माता की पूजा

हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 07:31 PM
महामारी से निजात के लिए शुरू हुई थी माता की पूजा

ताजपुर (निसं)। ताजपुर के पुरानी बाजार स्थित मां काली-दुर्गा मंदिर प्राचीन मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। स्थानीय त्रिलोकनाथ उपाध्याय की माने तो मंदिर की स्थापना आज से करीब ढाई सौ वर्ष पहले 18 वीं सदी के उत्तरार्द्ध में हुई। पहले मां काली की पूजा शुरू हुई थी परन्तु कुछ ही वर्षों बाद दुर्गा माता की भी पूजा की जाने लगी। बताया जाता है कि ढाई सौ वर्ष पूर्व ताजपुर एवं आसपास के इलाके में महामारी का प्रकोप फैल गया था। अकाल मृत्यु की संख्या बढ़ते देख लोगों ने महामारी से काली-दुर्गा माता से मन्नते मांगी। इसके बाद चमत्कारिक रूप से महामारी थम गई। उसी समय से पहले काली माता और बाद में दुर्गा माता की पूजा की जाने लगी। बताया जाता है कि माता के दरबार में सच्चे मन से जो भी भक्त हाजिरी लगाते हैं उनकी मुराद जरूर पूरी होती है। अब तक माता के दरबार में असंख्य लोगों की मुरादें पूरी हो चुकी हैं।

संबंधित खबरें