DA Image
1 अक्तूबर, 2020|1:00|IST

अगली स्टोरी

वाकोवाक्यम पुरस्कार से सम्मानित हुए ईश्वर करुण

default image

विगत 15 वर्षों से प्रति वर्ष वाराणसी स्थित प्रसिद्ध संस्था वाकोवाक्यम संस्कृत संस्थान द्वारा महामहोपाध्याय स्व कपिलदेव पाण्डेय की स्मृति में दिया जाने वाला ‘वाकोवाक्यम पुरस्कार इस वर्ष मोहिउद्दीननगर के गीतकार ईश्वर करुण को हिन्दी साहित्य में उनके योगदान और कविता के क्षेत्र में उनकी लोकप्रियता के आधार पर दिया गया है।

कोरोना के कारण सोशल मीडिया पर आयोजित इस कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रसिद्ध संस्कृत विद्वान और कई पुस्तकों के रचयिता महामहोपाध्याय प्रो रेवा प्रसाद द्विवेदी ने की। समारोह के मुख्य अतिथि प्रो अभिराज राजेंद्र मिश्र शिमला (पूर्व कुलपति सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय), विशिष्ट अतिथि नयी दिल्ली के पद्मश्री डॉ. रमाकांत शुक्ल व सारस्वत अतिथि वाराणसी के प्रो कृष्णकांत शर्मा थे। समारोह का संचालन डॉ. विवेक पाण्डेय ने किया। स्वागत भाषण संस्थान के अध्यक्ष प्रो प्रभुनाथ द्विवेदी ने किया। इस अवसर पर विवर्त पाण्डेय और विमर्श पाण्डेय द्वारा तैयार संस्कृत एन्ड्रोआयड एप्लीकेशन का लोकार्पण भी किया गया। पुरस्कार प्राप्त करने वाले विद्वानों का अभिनन्दन पत्र डा मीनाक्षी और डॉ. चेतना ने पढ़ा।

संचालक डा विवेक के विशेष आग्रह पर श्री ईश्वर करुण ने अपना एक गीत भी सुनायी। उनकी इस उपलब्धि पर डॉ. अंजू सिंह, चंद्रशेखर शांडिल्य, प्रो अखिलेश्वर मिश्र, आचार्य लक्ष्मीश्वर मिश्र, सुश्री सीमा, विजय गोयल, डॉ. एसके दुबे, अलमेलु कृष्णन, डॉ. आरडी शर्मा सहित बिहार तथा देश के अन्य राज्यों के विद्वानों के अलावे क्षेत्र के साहित्यकार द्वारिका राय सुबोध, अश्विनी कुमार आलोक, बैद्यनाथ पंडित प्रभाकर, दुखित महतो, आचार्य लक्ष्मी दास, इन्तखाब आलम, अब्दुल मोबीन आदि ने बधाई दी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ishwar Karun honored with Vakovakyam Award