Friday, January 21, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार समस्तीपुर गन्ने के साथ अंतरवर्ती खेती करने से होता है दोहरा लाभ

गन्ने के साथ अंतरवर्ती खेती करने से होता है दोहरा लाभ

हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरNewswrap
Mon, 06 Dec 2021 08:50 PM



 
गन्ने के साथ अंतरवर्ती खेती करने से होता है दोहरा लाभ

हसनपुर। चीनी मिल इलाके के किसानों में अंतरवर्ती खेती करने की होड़ लगी हुई है। किसान दोहरा लाभ लेने के लिए गन्ने के साथ चना, आलू, गेंहू, फुलगोभी, राजमा, सरसों, प्याज धनिया, मसूर, लहसून, खैैनी, मंगरैला, दलहन तेलहन की खेती करने में लगे हुये है। सात हजार में शरदकालीन गन्ने की रोपाई की गई है। जिस में 6130 एक ड़ में अंतरवर्ती खेती की गई है। किसानों का मानना है कि गन्ने की लागत पूंजी अंतरवर्ती खेती से उपर हो जाती है। अंतरवर्ती खेती से मुनाफा अधिक होता है। दो फसली पटवन करने के इरादे से गन्ने का भी पटवन हो जाता है। खुरपी देने से खरपतवार भी निकल जाती है। वरीय गन्ना उपाध्यक्ष शम्भू प्रसाद राय बताते हैं कि किसान गन्ना के साथ साथ अन्य फसलों की खेती करते हैं। बड़गांव के किसान निखिल कुमार ने गन्ने के साथ आलु, सकरपुरा के किसान त्रिभूवन नाथ राय गन्ने के साथ सरसों, हसनपुर गांव के धरणीधर सिंह ने गन्ने के साथ आलू की खेती की है। किसानों का कहना है कि मौसम मेहरवान रहा तो अंतरवर्ती फसल से गन्ने की रोपाई का खर्च निकल जायेगा। इलाके में सीओजीरो-238, 118, सीओ-15023, सीओएलके-14201, सीओजे-85 आदि गन्ना प्रभेदों की रोपाई हो रही है। चीनी मिल परक्षिेत्र के इलाके मेंं गन्ने के साथ आलू की रोपाई का मुआयना करते हुये अधिकारी ने किसानों मजदूरों को तकनीकि जानकारी दी।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें