ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार समस्तीपुरशिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए डीईओ को निर्देश

शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए डीईओ को निर्देश

समस्तीपुर। जिले की शिक्षा व्यवस्था में और गुणात्मक सुधार लाने के लिए कई बिंदुओं...

शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए डीईओ को निर्देश
default image
हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरFri, 14 Jun 2024 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

समस्तीपुर। जिले की शिक्षा व्यवस्था में और गुणात्मक सुधार लाने के लिए कई बिंदुओं पर डीईओ को निर्देश जारी किए गए हैं। उनसे कहा गया है कि इसके लिए जो भी संसाधन चाहिए, वह निश्चित रूप से मिलेगा। जिले के विभिन्न स्कूलों के सर्वश्रेष्ट शिक्षक व हेडमास्टर का चयन कर उन्हें पुरस्कृत करने की व्यवस्था करने को कहा गया है।
शिक्षण संस्थानों के आधारभूत संरचना, स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड आदि को सर्वोच्च प्राथमिकता देने को कहा गया है। उन्हें निर्देशित किया गया है कि वे जिले के सभी विधायकों व विधान पार्षदों से पांच-पांच स्कूलों की सूची प्राप्त करें। जिस पर प्राथमिकता के आधार पर उसके आधारभूत संरचना आदि का काम उत्कृष्ट तरीके से कराया जाए। स्कूलों के निरीक्षण व्यवस्था को और दुरूस्त करने पर जोड़ देते हुए कहा गया कि निरीक्षी अधिकारी एक स्कूल का लगातार तीन महीने तक हर सप्ताह निरीक्षण करेंगे तथा उस स्कूल के सुधार के लिए सभी आवश्यक कार्रवाई भी करेंगे। अगर कोई कमी रह जाती है तो डीएम के सहयोग से कमियों को दूर करें। निरीक्षण के क्रम में शिक्षकों के पठन पाठन की गुणवत्ता का मूल्यांकन सभी निरीक्षी अधिकारी करेंगे। स्कूलों के निरीक्षण में जाने वाले अधिकारी स्कूलों में नहीं जाकर सीधा गांव में जाएंगे व पता करेंगे कि बच्चे स्कूल अवधि में वाहर तो नहीं घूम रहे हैं। स्कूलों में आपूर्ति की गई बेंच डेस्क फर्नीचर व वर्तनों की सख्ती से जांच करायी जाय। कोई भी फर्जी रिपोर्ट नहीं भेजी जाए अन्यथा दोषी अधिकारी पर कठोर कार्रवाई होगी। स्कूल अवधि से गायब व कर्तव्य में लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों का वेतन काटने की जगह उनके खिलाफ अनुशासनिक व विभ्ससितम्बर तक पूरा करने का निर्देश दिया गया। जून तक सभी छात्र छात्राओं का आधार बनाने का काम पूरा करना है। सभी स्कूलों का रंग रोगन एक समान करने को कहा गया है। स्कूलों में बच्चों को स्वच्छ वातावरण में गुणवत्तापूण भोजन सुनिश्चित कराने के लिए भोजन की गुणवत्ता की जांच के लिए जीविका दीदी व स्थानीय डाक्टर को लगाया जाय। स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड के लिए चिन्हिंत स्कूलों का भौतिक सत्यापन कराने को कहा गया। इस योजना में आने वाली शिकायतों का त्वरित रूप से निदान कराएं। कार्यरत शिक्षकों व कर्मियों का सेवा इतिहास पुस्तिका का संधारण इलेक्ट्रिॉनिक मोड में होने की जानकारी दी गई। वित्तीय अनुशासन बनाए रखने पर जोड़ देते हुए इसमें गड़बड़ी पर विभाग से कठोर कार्रवाई करने की हिदायत दी गई। जिला स्तर पर लंबित एसी, डीसी व यूसी के लंबित बिलों का समय पर अनुपालन सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।