ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार समस्तीपुरडेंगू से बचाव व जानकारी देगा स्वास्थ्य विभाग

डेंगू से बचाव व जानकारी देगा स्वास्थ्य विभाग

समस्तीपुर। डेंगू से बचाव एवं इलाज के संबंध में स्वास्थ्य विभाग लोगों को जागरुक...

डेंगू से बचाव व जानकारी देगा स्वास्थ्य विभाग
हिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरTue, 14 May 2024 07:30 PM
ऐप पर पढ़ें

समस्तीपुर। डेंगू से बचाव एवं इलाज के संबंध में स्वास्थ्य विभाग लोगों को जागरुक करेगा। इसको लेकर 16 मई को स्वास्थ्य विभाग राष्ट्रीय डेंगू दिवस के रुप में मनाएगा। इसके तहत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों एवं गैर सरकारी संगठनों से समन्वय स्थापित कर डेंगू के रोकथाम को कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। अपर निदेशक सह राज्य कार्यक्रम अधिकारी वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम द्वारा सिविल सर्जन को डेंगू दिवस कार्यक्रम आयोजित करने का निर्देश दिया है। इस आलोक में सीएस डॉ. एसके चौधरी ने सभी पीएचसी प्रभारी एवं अनुमंडलीय अस्पताल के डीएस को राष्ट्रीय डेंगू दिवस मनाने का निर्देश दिया है। साथ ही अस्पताल में आने वाले मरीजों को उक्त दिन डेंगू के बचाव एवं लक्षण के अलावे इलाज के बारे में समुचित जानकारी देने का आदेश दिया है।

मानसून के बाद होता है डेंगू का प्रकोप:

डेंगू का प्रकोप मानसून के आते ही बढ़ जाता है। पिछले कई वर्षों से डेंगू का प्रकोप भी बढ़ गया है। इस लिए डेंगू दिवस से ही इसकी रोकथाम की गतिविधियों को तेज किया जाएगा। जो मानसून के खत्म होने तक जारी रहेगा। इस बार ‘कनेक्ट विथ कम्यूनिटी, कंट्रोल डेंगू विषय पर डेंगू कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

डेंगू के यह है लक्षण:

डेंगू एवं चिकनगुनिया की बीमारी संक्रमित एडिस मच्छर के काटने से होती है। यह मच्छर दिन में काटता है एवं स्थिर साफ पानी में पनपता है। इसका मुख्य लक्षणों में तेज बुखार, बदन, सर एवं जोड़ों में दर्द तथा आंखों के पीछे दर्द। नाक, मसूढ़ों से या उल्टी के साथ रक्तस्त्राव होना। त्वचा पर लाल धब्बे व चकत्ते का निशान। काला पैखाना होना।

डेंगू से बचाव के उपाय:

दिन में भी सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करें। मच्छर भगाने वाली दवा व क्रीम का प्रयोग दिन में भी करें। पूरे शरीर को ढंकने वाले कपड़े पहने। सभी कमरों को साफ-सुथरा एवं हवादार बनाए रखें। टूटे-फूटे बर्तनों, कूलर, एसी, फ्रिज के पानी में निकासी दें। जमे हुए पानी में मिट्टी का तेल डालें। डेंगू एवं चिकनगुनिया बुखार की स्थिति में सभी रोगियों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं होती है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें