DA Image
22 सितम्बर, 2020|10:50|IST

अगली स्टोरी

46,275 एकड़ खेत जलजमाव से प्रभावित

default image

जिले के 1 लाख 31 हजार 191 हेक्टेयर में खरीफ फसल लगाई गई थी। जिसमें से 46 हजार 275 एकड़ भूमि की फसल बाढ़ व जलजमाव से प्रभावित है। यह जानकारी जिला कृषि पदाधिकारी विकास कुमार ने दी। उन्होंने बताया कि महीनों से पानी लगे होने के कारण किसान बर्बादी के कगार पर पहुंच चुके हैं। कृषि विभाग की ओर से सरकार को जिले में कुल खरीफ फसल में से 42.5 फीसदी के प्रभावित होने की रिपोर्ट भेजी गई है। इस प्रभावित आंकड़ों में से कितनी फसल पूरी तरह से बर्बाद होगी इसका सही आंकलन खेतों से पानी उतरने के बाद ही होगा। पर बूढ़ी गंडक, बागमती, कमला, बलान, गंगा आदि के जलस्तर में खतरे के निशान के बराबर में स्थिरता बने रहने से स्थिति किसानों की विपरीत ही बनी है।

जिसमें 27,622 हेक्टेयर में धान, 11,288 हेक्टेयर में मकई, 3576 हेक्टेयर में फल व सब्जी एवं 3747 में लगाई गई अन्य फसलें पूरी या आंशिक रूप से बाढ़ व जलजमाव में डूबी हैं व बर्बादी के कगार पर हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:46 275 acres of farmland affected by water logging