DA Image
23 नवंबर, 2020|3:16|IST

अगली स्टोरी

कोहरे में बगैर रुके सुरक्षित चलेंगी ट्रेनें

कोहरे में बगैर रुके सुरक्षित चलेंगी ट्रेनें

कोहरे में बगैर रुकावट सुरक्षित ट्रेनें चलेगी। इस मौसम में धुंध के बीच ट्रेनों का परिचालन दुर्घटनारहित और अधिक विलंब से नहीं हो इसके लिए रेलवे ने जीपीएस सिस्टम आधारित फॉग सेफ्टी डिवाइस का उपयोग करना शुरू किया है।यह डिवाइस परिचालित हर ट्रेन के सहायक चालक को क्रू लॉबी के द्वारा दिया जाता है। फॉग सेफ्टी डिवाइस के जरिए ट्रेन में चल रहे सहायक चालक और चालक को रूट, सिग्नल व स्टेशन की जानकारी मिल जाती है।

ट्रेनें बगैर किसी रुकावट के हल्की धीमी गति से स्टेशन और हॉल्ट पर पहुंचती है। कोहरे की वजह से ट्रेन को रुकना नहीं पड़ता और अधिक लेट नहीं होती। डिवाइस के अलावा चालक को सिग्नल इंडिकेशन बुकलेट भी दिया जाता है। जिससे कोहरे के मौसम में ट्रेन परिचालन किस तरह से सुरक्षित किया जाय उसकी जानकारी मिलती है। मुख्य क्रू नियंत्रक एस. सी. झा ने कहा कि ट्रेन परिचालन के दौरान सहायक चालक फॉग सेफ्टी डिवाइस के जरिए रूट का चयन कर लेता है। डिवाइस का फायदा यह है कि समय की बचत के साथ सुरक्षित ट्रेन परिचालन होता है।

सहरसा को मिले हैं 42 फॉग सेफ्टी डिवाइस : सहरसा क्रू लॉबी को 42 फॉग सेफ्टी डिवाइस मिले हैं। जिसे मुख्य क्रू नियंत्रक ट्रेन लेकर जाने वाले हर सहायक चालक को एक की संख्या में देते हैं। ट्रेन परिचालन से संबंधित ड्यूटी समाप्त होने के बाद सहायक चालक उसे क्रू लॉबी में जमा कर देता है। यह डिवाइस मेल, एक्सप्रेस, डेमू, मेमू और मालगाड़ी सभी के सहायक चालकों को दिया जाता है। समस्तीपुर मंडल में कुल 285 फॉग सेफ्टी डिवाइस विभिन्न क्रू लॉबी को उपलब्ध कराया गया है। इसके अलावा रेलवे के विभिन्न विभागों के अधिकारी इंजन से जाकर फुट प्लेट करते सिग्नल, फाटक, पटरी सहित कर्मचारियों की गतिविधि का औचक निरीक्षण करने में जुट गए हैं।

डिवाइस चलाने को किया प्रशिक्षित : मुख्य क्रू नियंत्रक एस. सी. झा ने फॉग सेफ्टी डिवाइस चलाने को रविवार को कर्मियों को प्रशिक्षित किया। डिवाइस पर कैसे रूट का चयन किया जाता उस बारे में बताया। मौके पर क्रू नियंत्रक अक्षय कुमार, चालक अवनीश कुमार, अतुल कुमार, सज्जन कुमार, सहायक चालक राजेश, चंदन चौधरी सहित अन्य थे।

पटाखा सिग्नल का भी किया जाने लगा है उपयोग : सुरक्षित ट्रेन परिचालन के लिए पटाखा सिग्नल का भी उपयोग किया जाने लगा है। कोहरे के मौसम में रेलवे इस तरह के इंतजाम एहतियातन तौर पर हर साल करती है। होम सिग्नल पर पटाखे लगाए जाते हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Trains will run safely without stopping in fog