DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  सहरसा  ›  ग्रामीण चिकित्सकों को दिया गया प्रशिक्षण
सहरसा

ग्रामीण चिकित्सकों को दिया गया प्रशिक्षण

हिन्दुस्तान टीम,सहरसाPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 06:40 AM
ग्रामीण चिकित्सकों को दिया गया प्रशिक्षण

पतरघट | एक संवाददाता

पशुचिकित्सालय सभागार में बुधवार को एनआईओएस द्वारा एक बर्षीय प्रशिक्षण प्राप्त ग्रामीण चिकित्सकों को कोविड-19 संक्रमण रोकथाम एवं अन्य कार्यो में सहयोग के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया।

प्रशिक्षण की अध्यक्षता करते पीएचसी प्रभारी डा.बवीता कुमारी ने ग्रमीण चिकित्सक को कई महत्वपूर्ण जबावदेही देते खासकर ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य के क्षेत्र में सहयोग करने की अपील किया। वहीं प्रशिक्षक डा.धीरज कुमार ने कोविड-19 की लक्षण, रोकथाम एवं उपचार से संबंधित विशेष जानकारी दिया। डा.धीरज ने प्रशिक्षण के दौरान ग्रामीण चिकित्सकों को कोरोना के तीन लक्षण माइल्ड, मोड्रेड एवं सिभियर के बारे में जानकारी दिया। तथा बताया कि माइल्ड वाले में बदन दर्द, सर्दी, खांसी व बुखार रहता हैं। वहीं मोड्रेड वाले में सांस लेने में तकलीफ, डायरिया, सर्दी, खांसी, बुखार व कमजोरी होती हैं। जबकि सिभियर मरीज में सांस लेने म़े ज्यादा तकलीफ, गले में दर्द, कमजोरी, तेज बुखार, स्वाद नहीं लगना, गंध नहीं आना लक्षण हैं। डा.धीरज ने इन तीनों लक्षण पाये जाने पर सरकार द्वारा दिये गये गाइड लाइन का अनुपालन किये जाने की जरूरत बताया। उन्होंने कहा तीनों लक्षण पाये जाने पर ग्रामीण डाक्टरों द्वारा सूचना मिलते ही घर में रहकर भी सुरक्षित इलाज संभव है। ग्रामीण डाक्टर परीमल सिंह के द्वारा कोरोना मरीजों की सफल इलाज किये जाने को सराहनीय बताया। बीएचएम रमन कुमार ने प्रशिक्षण में 37 ग्रामीण चिकित्सकों से एनओआईएस मार्कसीट सर्टिफिकेट, आधार कार्ड, पैन कार्ड एवं बैंक पासबुक की छायाप्रति उपलब्ध करवाने की अपील की। प्रशिक्षण में डा.बीके प्रशांत, बीएचएम रमन कुमार, केयर के बीएम अंकुर दिवाकर, ग्रामीण चिकित्सक जिला अध्यक्ष डा.खुर्शीद आलम, प्रखंड अध्यक्ष अवलेन्द्र झा, डा.परीमल सिंह, सुदर्शन गुप्ता,नवीन सिंह अमरजीत कुमार, मदन झा, अनिल झा सहित ग्रामीण चिकित्सक मौजूद थेंं।

संबंधित खबरें