DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › सहरसा › सहरसा शहर के बचे 27 वार्डों में ड्रेनेज सिस्टम के लिए होगा सर्वे
सहरसा

सहरसा शहर के बचे 27 वार्डों में ड्रेनेज सिस्टम के लिए होगा सर्वे

हिन्दुस्तान टीम,सहरसाPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 04:21 AM
सहरसा शहर के बचे 27 वार्डों में ड्रेनेज सिस्टम के लिए होगा सर्वे

सहरसा | रंजीत

शहर के बचे 27 वार्डों में स्ट्रॉम वाटर ड्रेनेज सिस्टम कार्य के लिए जल्द सर्वे शुरू होगा। कंसल्टेंट बहाल कर बुडको 27 वार्डों में स्ट्रॉम वाटर ड्रेनेज योजना कार्य के लिए सर्वे कराते हुए नए सिरे से डीपीआर तैयार कराएगा।

तैयार डीपीआर के आधार पर उन वार्डों में बड़े-बड़े नाले का निर्माण कार्य किया जाएगा। नाले से पानी की निकासी के लिए पाइपलाइन बिछाए जाएंगे और पम्पिंग स्टेशन का निर्माण किया जाएगा। वर्ष 2013-14 में तैयार की गई कार्ययोजना के तहत शहर के 40 में से 13 वार्डों में पहले चरण में स्ट्रॉम वाटर ड्रेनेज सिस्टम के तहत बुडको के द्वारा मुख्य सड़कों के किनारे बड़े नाले का निर्माण कार्य किया जा रहा है। बचे 27 वार्डों में दूसरे चरण में बड़े-बड़े नाले का निर्माण होना है। लेकिन 27 वार्डों में नए-नए मोहल्ले विकसित हो जाने के कारण नए सिरे से सर्वे करते डीपीआर तैयार करने का निर्णय लिया गया है।

बुडको के अधीक्षण अभियंता अशोक कुमार ने कहा कि दूसरे चरण में होने वाले स्ट्रॉम वाटर ड्रेनेज कार्य के लिए नए सिरे से सर्वे किया जाएगा। शहर के शेष रह गए 27 वार्डों में सर्वे के लिए कंसल्टेंट को बहाल किया जाएगा। कंसल्टेंट सर्वे करते डीपीआर तैयार करेगी। उस आधार पर शेष वार्डों में भी बड़े-बड़े नाले का निर्माण करते जलनिकासी की सुविधा बहाल की जाएगी। पम्पिंग स्टेशन का निर्माण किया जाएगा और पाइपलाइन के जरिए पानी को नदी में गिराया जाएगा।

20 से 50 साल को ध्यान में रखते बनाई जाएगी कार्ययोजना : स्ट्रॉम वाटर ड्रेनेज सिस्टम के तहत होने वाले कार्य में नाला से पानी की निकासी में 20 से 50 साल तक कोई दिक्कत नहीं आए उसका ख्याल रखा जाएगा। अधीक्षण अभियंता ने कहा कि 20 से 50 साल तक या उससे भी अधिक पानी की निकासी निर्बाध होती रहे उसका ख्याल रखते कार्ययोजना को मूर्तरूप दिया जाएगा। इस तरह से जलनिकासी की व्यवस्था का प्लान किया जाएगा जिससे हंटर कभी भरे नहीं क्योंकि एक बार हंटर भर गया तब पानी का निकासी रुक जाएगा। नया सर्वे में फाइनल डिस्पोजल पर फोकस किया जाएगा। जहां-जहां जरूरत होगी उधर नाले का निर्माण कार्य हो शामिल किया जाएगा। कौन सी नदी में पानी गिराई जाएगी उसे देखा जाएगा।

संबंधित खबरें